नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट 2022: नई MGNREGA कार्ड सूची, NREGA Card रजिस्ट्रेशन

नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट को अधिकारिक रूप से ऑनलाइन पोर्टल पर जारी कर दिया गया है | देश के जो इच्छुक लाभार्थी नरेगा कार्ड सूची तथा उस सूची में अपना नाम देखना चाहते है तो वह MGNREGA की Official Website पर जाकर आसानी से Online देख सकते है |

Contents

NREGA Job Card List 2022

केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही मनरेगा योजना ( MNREGA Yojna ) पूरी तरह से रोजगार पर केंद्रित एक सरकारी योजना है | NREGA Job Card List 2022 का उपयोग करके आप अपने गांव / शहर के लोगों की पूरी सूची देख सकते हैं जो आगामी वित्तीय वर्ष में MGNREGA के तहत काम करेंगे।

मनरेगा जॉब नई घोषणा

हमारे देश की वित् मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने 20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज की दूसरी किस्त की घोषणा गुरुवार को कर दी है इस घोषणा में वित् मंत्री जी ने कहा है कि मनरेगा जॉब योजना के अंतर्गत देश के जो प्रवासी मजदूर जो लॉक डाउन की वजह से अन्य दूसरे राज्य में फसे हुए थे और वह अब अपने गांव वापस लोट आये है उन वापस लौटने वाले प्रवासी मजदूरों के लिए मनरेगा में रोजाना मिलने वाले 182 रूपये की रकम को बढ़ाकर 202 रुपए रोजाना कर दिया गया। इस योजना के तहत 14.6 करोड़ व्यक्ति दिवस कार्य 13 मई तक सरकार द्वारा किये गए है अर्थात 14.62 करोड़ कार्य दिवस का काम 13 मई 2020 तक उपलब्ध कराया गया है | इस कार्य के लिए 10000 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया ताकि वापस आये प्रवासी मजदूरों को काम मिल सके।

बिहार नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं संपूर्ण देश में कोरोनावायरस संक्रमण चल रहा है। जिसको देखते हुए देश में लॉकडाउन लगाया गया था। अब धीरे-धीरे करके इस लॉकडाउन को खोला जा रहा है। इस लॉकडाउन के कारण देश में कई सारी फैक्ट्रियां, लघु उद्योग, दुकानें भी बंद हो गई थी। इस स्थिति में सरकार द्वारा ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों के मजदूरों को नरेगा जॉब कार्ड के अंतर्गत लिया गया है। नरेगा योजना के अंतर्गत लाभार्थियों को साल के 100 दिन काम प्रदान किया जाएगा। वह सभी लोग जिनका नाम बिहार नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट में होगा वह रोजगार प्राप्त कर पाएंगे। इस लिस्ट में अपना नाम देखने के लिए बिहार के नागरिकों को किसी भी सरकारी कार्यालय के चक्कर काटने की आवश्यकता नहीं है। वह घर बैठे आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से अपना नाम बिहार नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट में देख सकते हैं। इस सूची को ऑनलाइन उपलब्ध होने की वजह से समय और पैसे दोनों की बचत होगी।

  • बिहार नरेगा जॉब कार्ड केवल उन्हीं लोगों का बनाया जाता है जो आर्थिक रूप से बहुत कमजोर होते हैं और जिनके पास आएगा कोई साधन नहीं होता है। पहले मनरेगा के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों के नागरिक ही काम कर सकते थे। लेकिन अब शहरी क्षेत्रों के नागरिक भी इस योजना के अंतर्गत रोजगार प्राप्त कर सकते हैं ।
  • मनरेगा जॉब कार्ड में आपके पूरे कार्य का विवरण किया होता है। वे सभी नागरिक जो बिहार नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट के अंतर्गत काम करेंगे उनके खाते में सरकार द्वारा उनके पैसे ट्रांसफर कर दिए जाएंगे। इस योजना के अंतर्गत ग्राम पंचायत में जाकर भी आवेदन किया जा सकता है। वह सभी बिहार के नागरिक जिन्होंने बिहार नरेगा जॉब कार्ड बनवाने के लिए आवेदन किया था वह अपना नाम आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर बिहार नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट में देख सकते हैं।

NREGA List 2022 – नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट

महात्मा गाँधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम 2005 (Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act 2005 MGNREGA)देश के गरीब परिवारों को नौकरी कार्ड प्रदान करता है  जिनमें जॉब कार्ड धारक या NREGA लाभार्थी द्वारा किए जाने वाले कार्यों की सभी जानकारी शामिल होती है |प्रत्येक वर्ष लाभार्थियों के लिए एक नया नरेगा कार्ड तैयार किया जाता है | अगर आप भी NREGA Job Card 2022  बनवाना चाहते है तो ऑनलाइन आवेदन कर सकते है | कोई भी उम्मीदवार जो नरेगा के योग्यता और मानदंड को पूरा करेगा  वह NREGA Job Card के लिए आवेदन कर सकता है।

NREGA Job Card List 2022 Highlights

योजना का नामनरेगा जॉब कार्ड लिस्ट 2021
इनके द्वारा शुरू की गयीकेंद्र सरकार द्वारा
लाभार्थीसभी राज्यों के नरेगा जॉब कार्ड धारक
विभागभारत के ग्रामीण विभाग सरकार का मंत्रालय
लिस्ट देखने का तरीकाऑनलाइन
ऑफिसियल वेबसाइटhttps://nrega.nic.in/netnrega/home.aspx

नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट कुछ मुख्य बातें

  • नरेगा योजना का मुख्य उद्देश्य भारत के प्रत्येक नागरिक तक रोजगार पहुंचाना है। इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक नरेगा जॉब कार्ड धारक को 100 दिन का सुनिश्चित काम एक वित्त वर्ष में प्रदान किया जाता है।
  • भारत सरकार द्वारा मनरेगा योजना को पिछले 14 वर्ष से संचालित किया जा रहा है। इस वर्ष पिछले वर्ष की तुलना में भारत सरकार द्वारा 1.3 करोड़ नए नरेगा जॉब कार्ड श्रमिकों को प्रदान किए गए हैं तथा इस योजना के अंतर्गत इस वर्ष 1 करोड़ परिवारों ने नरेगा योजना के अंतर्गत काम किया है।
  • पिछले वर्ष नरेगा योजना के अंतर्गत एक परिवार का औसतन रोजगार 48 दिन था जो की अब 41 दिन हो गया है। नवंबर 30, 2020 तक 17 लाख परिवारों ने 100 दिन का रोजगार पूरा कर लिया है लेकिन पिछले वर्ष नवंबर तक 40.6 लाख परिवारों ने काम पूरा कर लिया था।केंद्र सरकार द्वारा 30 नवंबर 2020 तक आधिकारिक वेबसाइट के हिसाब से 324 करोड़ परसोंडे आवंटित किया गया है।
  • वर्तमान समय में इस योजना के अंतर्गत काम देने की प्रक्रिया एक सॉफ्टवेयर के माध्यम से संचालित की जाती है जिसका नाम सिक्योर है।

नरेगा के अंतर्गत बढ़ाया गया वेतन

केंद्र सरकार द्वारा महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण योजना के अंतर्गत अकुशल श्रमिकों को प्रदान किए जाने वाले वेतन में वृद्धि की गई है। पहले नरेगा के अंतर्गत ₹209 प्रतिवर्ष वेतन मिलता था जो अब बढ़कर ₹303.40 कर दिया गया है। सरकार सुंदरगढ़ जिले मिनिरल संस्थान फंड से यह अतिरिक्त राशि प्रदान करेगी। कोविड-19 की वैश्विक महामारी को देखते हुए नरेगा के अंतर्गत नौकरियों को बढ़ाए जाने पर सरकार द्वारा जोड़ दिया जा रहा है। जिससे कि श्रमिकों को किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।

उत्तर प्रदेश में मनरेगा योजना का बजट दोगुना किया गया

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) के अंतर्गत उत्तर प्रदेश सरकार ने बजट को दोगुना करने का निर्णय लिया है। जिससे कि गांव के ज्यादा से ज्यादा लोग रोजगार से जुड़ सके हैं। उत्तर प्रदेश पूरे देश का पहला ऐसा राज्य बना है जिसने इस योजना के बजट को दोगुना किया है। पहले नरेगा योजना का बजट 8500 करोड़ रुपए था जिसे अब बढ़ाकर 15000 करोड रुपए कर दिया गया है। अब इस योजना के अंतर्गत ज्यादा से ज्यादा लाभार्थियों को काम मिल पाएगा। पिछले वर्ष सबसे ज्यादा मनरेगा के अंतर्गत उत्तर प्रदेश में रोजगार प्रदान किए गए थे। इस योजना के अंतर्गत लगभग 85 लाख परिवारों के 1 करोड़ 4 लाख 70 हजार से ज्यादा श्रमिकों को रोजगार प्रदान किया गया है। वर्ष 2019-20 में 53.15 लाख परिवारों को काम मिला था जिसकी तुलना में इस वर्ष लगभग 32 लाख परिवारों की बढ़ोतरी हुई है।

  • उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 100 दिन काम करने वाले 20 लाख से अधिक श्रमिकों को श्रम विभाग में पंजीकरण किया जाएगा। इन पंजीकृत परिवारों को सरकार की श्रमिकों के लिए चलाई जा रही 17 योजनाओं का लाभ प्रदान किया जाएगा। जिससे कि 20 लाख श्रमिकों के जीवन में बदलाव आएगा।
  • पंजीकरण के बाद श्रमिकों के लिए चलाई जा रही कुछ खास योजना जैसे श्रमिक मेधावी छात्र पुरस्कार योजना , शिशु हित लाभ योजना, कन्या विवाह योजना , आवास सहायता योजना , भोजन सहायता योजना आदि का लाभ प्रदान किया जाएगा।

यूपी के मनरेगा मजदूरों को घर बैठे मिलेगा काम

शासन द्वारा यह शिकायत प्राप्त हो रही थी कि सेक्रेटरी तथा रोजगार सेवक अपने मर्जी से मजदूरी दे देते थे। इस शिकायत को गंभीरता से लेते हुए शासन ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। अब यूपी में मनरेगा मजदूरों को घर बैठे काम मिलेगा। घर बैठे काम प्राप्त करने के लिए मजदूरों को केवल एक s.m.s. भेजना होगा। अब मनरेगा मजदूरों को किसी भी सरकारी कार्यालय के चक्कर काटने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। शासन द्वारा दिए गए हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करके वह काम प्राप्त कर सकते है । उत्तर प्रदेश में 1128 ग्राम पंचायत है जिसमें 2,33,989 मनरेगा मजदूर पंजीकृत है। सभी पंजीकृत मजदूरों के द्वारा रोजगार की मांग लखनऊ कार्यालय में दर्ज होगी इसके बाद शासन द्वारा काम देने के लिए दिशा निर्देश जिले को भेज दिए जाएंगे और उसके बाद मजदूरों को काम मिल जाएगा।

अब कोई भी मजदूर इस हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करके काम प्राप्त कर सकता है।  इस योजना के अंतर्गत प्रवासी मजदूर भी इन्हीं नंबरों पर संपर्क करके काम प्राप्त कर सकते हैं। मनरेगा मजदूरों को ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत, जिला पंचायत तथा अन्य विभागों में काम प्रदान किया जाएगा। हेल्पलाइन नंबर 9454464999 तथा 9454465555 है।

यूपी मनरेगा मजदूरों के लिए आवास, पेंशन तथा चिकित्सा लाभ

अब उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मनरेगा मजदूरों को भी निर्माण श्रमिकों के कल्याण के लिए संचालित की गई 15 योजनाओं के लाभ पहुंचाए जाएंगे। यह फैसला उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किया गया है। यह लाभ उन मजदूरों को मिलेगा जिन्होंने 1 वर्ष में काम से कम 90 दिन मनरेगा के अंतर्गत कार्य किया है। सरकार द्वारा सभी लाभार्थियों की सूची तैयार की जा रही है और सभी लाभार्थी मजदूरों को कल्याण बोर्ड में पंजीकृत किया जाएगा। मनरेगा मजदूरों को निर्माण श्रमिकों के लिए संचालित 15 योजनाओं का लाभ पहुंचाया जाएगा। सभी मनरेगा श्रमिकों का विवरण मनरेगा पोर्टल से कर्मकार कल्याण बोर्ड के पोर्टल पर ऑनलाइन भेजा जाएगा। इन सुविधाओं में आवास, शौचालय, पेंशन, चिकित्सा आदि जैसी सुविधाएं शामिल की गई है। इस योजना के अंतर्गत निम्नलिखित 15 योजनाओं का लाभ मनरेगा कामगारों को प्रदान किया जाएगा।

  • शौचालय सहायता योजना
  • आवास सहायता योजना
  • कामगार गंभीर बीमारी सहायता योजना
  • कौशल विकास तकनीकी प्रमाणन एवं उन्नयन योजना
  • विकलांगता सहायता एवं अक्षमता पेंशन योजना
  • निर्माण कामगार अंत्येष्टि सहायता योजना तथा निर्माण कामगार मृत्यु
  • मेधावी छात्र पुरस्कार योजना
  • संत रविदास शिक्षा सहायता योजना
  • कन्या विवाह सहायता योजना
  • मातृत्व शिशु एवं बालिका मदद योजना
  • सौर ऊर्जा सहायता योजना
  • महात्मा गांधी पेंशन सहायता योजना
  • आवासीय विद्यालय योजना
  • चिकित्सा सुविधा योजना

अब तक यूपी में 1.32 लाख जॉब कार्ड धारकों ने किया काम

वित्तीय वर्ष 2020-21 में अब तक 1.32 जॉब कार्ड धारकों ने मनरेगा के अंतर्गत 100 दिन काम कर लिया है। इस समय लगभग 20 लाख मनरेगा मजदूर विभिन्न प्रकार के कार्य कर रहे हैं तथा 31 मार्च तक 90 दिन काम करने वाले मनरेगा मजदूरों की संख्या बढ़ जाने की उम्मीद विभाग द्वारा जताई जा रही है। नोडल विभाग द्वारा 31 मार्च 2021 तक 20 लाख परिवारों को 100 दिन काम देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

बिहार नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं सरकार द्वारा प्रतिवर्ष नरेगा लिस्ट अपडेट की जाती है। नरेगा योजना का लाभ संपूर्ण भारत के ग्रामीण तथा शहरी क्षेत्रों में प्रदान किया जाता है। बिहार राज्य में भी मनरेगा योजना का लाभ प्रदान किया जाता है। बिहार के वह सभी नागरिक जिन्होंने नरेगा जॉब कार्ड बनवाने के लिए आवेदन किया है वह नरेगा की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर अपना नाम चेक कर सकते हैं। नाम चेक करने के लिए नागरिकों को किसी भी सरकारी कार्यालय में जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

  • वह घर बैठे आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से अपना नाम देख सकते हैं।  सभी लाभार्थियों की सूची सरकार द्वारा ऑनलाइन जारी कर दी गई है।
  • इस योजना के अंतर्गत साल के 365 दिनों में से 100 दिन रोजगार प्रदान किए जाने का प्रावधान है। जिसकी पेमेंट सीधे लाभार्थी के बैंक अकाउंट में की जाती है।
  • वह सभी लाभार्थी जो बिहार में रहते हैं और मनरेगा कार्ड बनवाने के लिए आवेदन किया है वह हमारे द्वारा प्रदान की गई प्रक्रिया को फॉलो करता अपना नरेगा जॉब कार्ड बनवा सकते हैं। बिहार के सभी नागरिक इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।

नरेगा रोजगार कार्ड लिस्ट 2022

NREGA Job Card List 2022 के तहत प्रत्येक वर्ष गांव तथा शहर के नए लोगो को जोड़ा जाता है और कुछ योग्यता मानदंडों के आधार पर हटा भी दिए जाते हैं | NREGA जॉब कार्ड सूची  पिछले 10 वर्षों से 2009 -10 से 2018-2019 तक देश भर में 34 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए उपलब्ध है। इस List को देखने के साथ साथ आप इसे डाउनलोड भी कर सकते है और रोजगार के अवसर प्राप्त करने के लिए इसका  इस्तेमाल भी कर सकते है | आज हम आपको बतायेगे कि आप किस प्रकार इस नरेगा रोजगार कार्ड लिस्ट 2022 को किस तरह ऑनलाइन देख सकते है और  आप एनआरईजीए जॉब कार्ड की राज्यवार सूची डाउनलोड करने के लिए सरल चरणों का पालन कर सकते हैं।

मनरेगा योजना का इतिहास

नरेगा योजना पीवी नरसिम्हा राव की सरकार के द्वारा सन् 1991 में प्रस्तुत की गई थी। इसके बाद इस योजना को दोनों पार्लियामेंट से मंजूरी मिली थी और नरेगा योजना को पूरे भारत की 625 जिलों में आरंभ किया गया था। नरेगा योजना को वर्ल्ड डेवलपमेंट रिपोर्ट 2014 में प्रकाशित किया गया था। जिसमें यह बताया गया था कि इस योजना के माध्यम से अकुशल श्रमिकों को रोजगार प्रदान किया जाता है। इस योजना के माध्यम से कि बहुत सारे रोजगार के अवसर उत्पन्न होते हैं। नरेगा योजना को वर्ल्ड बैंक ने ग्रामीण विकास का उत्कृष्ट उदाहरण बताया है।

नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट उद्देश्य

जॉब कार्ड के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को हर वर्ष न्यूनतम 100 दिन की गारंटी रहित कुशल रोजगार प्रदान किया जाता है। जिसके माध्यम से बेरोजगार लोगों की आर्थिक स्थिति में सुधार आता है और वह आत्मनिर्भर बनते हैं। नरेगा जॉब कार्ड ऑनलाइन उपलब्ध होने के वजह से अब लोग घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से  अपना नरेगा जॉब कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं और नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट में अपना नाम भी देख सकते हैं।

नरेगा की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध सुविधाएं

  • जॉब कार्ड के लिए आवेदन
  • नरेगा जॉब कार्ड डाउनलोड
  • लेबर पेमेंट का स्टेटस
  • नरेगा के अंतर्गत किए जाने वाले कार्यों की जानकारी
  • कंप्लेंट

MGNREGA Job Card

केंद्र महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी (MGNREGA) योजना अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और विधवाओं के सबसे कमजोर परिवारों को स्थिर आय सुनिश्चित करता है। ग्रामीण विकास मंत्रालय ने देश सभी राज्यों को मनरेगा के तहत व्यक्तिगत-मजदूर लाभार्थी कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने का निर्देश दिया है, जिसमें खाद के गड्ढे खोदना, आम के पेड़ लगाना या कृषि क्षेत्रों में मरम्मत कार्य, कुओं की खुदाई और मरम्मत कार्य शामिल हैं । ग्रामीण विकास मंत्रालय,ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले गरीब परिवारों को महात्मा गांधी जॉब कार्ड के वितरण के लिए जिम्मेदार है। महात्मा गांधी रोजगार गारंटी अधिनियम 2005, जिसे पहले महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम के रूप में जाना जाता था, जो देश के गरीब लोगों के लिए उपकरण है जिसके द्वारा वे श्रम कार्य करके पैसा कमा सकते हैं।

नरेगा जॉब कार्ड 2022

इस कार्ड में भारत सरकार हर गांव हर शहर के गरीब परिवारों को जोड़ा जाता है । जो भी सरकार द्वारा निर्धारित पात्रता को पूरा करता है उन्ही नागरिको को जॉब कार्ड प्राप्त होता है। देश के गरीब लोग इस मनरेगा कार्ड को ऑनलाइन डाउनलोड भी कर सकते है । नरेगा जॉब कार्ड योजना से कई गरीब परिवारों को रोजगार मिलता है। जिससे की वे अपनी आर्थिक स्थिति सुधार सके। यदि आप भी इस योजना के अंतर्गत आते है तो आप अपना नाम नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट 2021 तो चेक कर सकते है ।इस योजना के अंतर्गत देश की वित् मंत्री के कहा है की सरकार अब रोजगार प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए मनरेगा को अतिरिक्त 40,000 करोड़ रुपये आवंटित करेगी। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (MGNREGA) के लिए पहले बजट अनुमान 61,000 करोड़ रुपये था।

Leave a Comment