UP Gehu Kharid Registration Online 2022 eproc.up.gov.in | उत्तर प्रदेश ई-उपार्जन ऑनलाइन पंजीकरण

उत्तर प्रदेश किसान पंजीकरण । UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण | eproc.up.gov.in, ई-क्रय प्रणाली पोर्टल | गेहू खरीद किसान ऑनलाइन आवेदन

उत्तर प्रदेश सरकार किसानो की आय को दोगुनी करने और उनके भविष्य को और सुनहरा करने के लिए तरह-तरह के प्रयास करती रहती है जिससे किसान भाइयो को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो। कई बार ऐसा होता है की किसानो को अपनी फसल कम दामों में बेचनी पढ़ जाती है जिससे उन्हें काफी नुकसान झेलना पड़ता है इसी समस्या को देखते हुए सरकार ने इस ऑनलाइन पंजीकरण करने की सुविधा को जारी किया। इससे सम्बंधित जानकारी जैसे: उत्तर प्रदेश गेहूं खरीद किसान ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करें ( UP gehun kharid kisan online panjikaran kese karein ), पोर्टल बनाने का उद्देश्य, लाभ, किसान पंजीकरण हेतू आवश्यक दस्तावेज, पात्रता आदि जानने के लिए आर्टिकल को नीचे तक पढ़े।

अपडेट- उत्तर प्रदेश ई-क्रय प्रणाली के माध्यम से अभी तक 36.7 लाख मीट्रिक तन गेहूं की खरीद की जा चुकी है। किसान नागरिक ऑनलाइन माध्यम से 15 जून तक अपनी फसल को बेच सकते है। गेहूं की खरीद में किसानों को अभी तक 125.15 करोड़ रूपए का भुगतान किया गया है। इस वर्ष में सबसे अधिक गेहूं की खरीद पोर्टल में ऑनलाइन माध्यम से की गयी है किसानों की सुविधा हेतु उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से मंडियों में अपनी फसल पहुंचाने हेतु किसानों के लिए टोकन की सुविधा उपलब्ध की गयी है। जिसमें किसान अगर गेहूं खरीद केंद्रों में स्वयं उपस्थित नहीं हो सकता है तो वह अपने परिवार के किसी अन्य सदस्य को केंद्रों में भेज सकते है।

Contents

उत्तर प्रदेश ई-उपार्जन ऑनलाइन पंजीकरण से सम्बन्धित जानकारी

उत्तर प्रदेश भारत की सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है, इसलिए यहाँ पर बहुत अधिक किसान भी है और यहाँ पर ग्रामीण क्षेत्र भी बहुत अधिक है, जो कृषि पर निर्भर है | यहाँ राज्य सरकार ने किसानों को उनकी फसल का सही मूल्य देने के लिए उनके लिए पोर्टल जारी किया है, जिसके माध्यम से आप घर बैठे ऑनलाइन माध्यम से अपने गेहूं की फसल बेच सकते है | 

उत्तर प्रदेश में गेहूं की फसल मुख्य मानी जाती है, जिसके लिए किसानों को उचित मूल्य नहीं मिल पाता और उनके पैसे बिचोलिये खा जाते है| अब इस समस्या का समाधान करते हुए, बिना किसी बिचोलिये के डायरेक्ट बेचे गए गेहूं की राशि आपके बैंक खाते में आ जाएगी|

इसके लिए आप अपने मोबाइल से भी आवेदन कर सकते है | इस प्रक्रिया को और आसान बनाने के लिए क्षेत्र के ब्लॉक में जिले में इसके लिए संसथान बनाये गए है, जहाँ पर आपको रजिस्ट्रेशन के बाद गेहूं ले जाने होते है | यदि आप भी उत्तर प्रदेश के किसान है और UP Gehu Kharid Registration Online, उत्तर प्रदेश ई-उपार्जन ऑनलाइन पंजीकरण की जानकारी पाना चाहते है तो इसके बारे में बताया गया है

यूपी गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण 2022

उत्तर प्रदेश सरकार अप्रैल महीने से किसानो से गेहूं मार्किट प्राइस पर खरीदेगी आपको बता दें की 15 जून तक गेहूं की खरीद संस्थाओं द्वारा की जाएगी। किसान अपनी गेहू की फसल को अब 1975 प्रति कुन्तल समर्थन मूल्य पर बेच सकेंगे। 72 घंटे के अंदर ऑनलाइन पंजीकरण किसानो के खाते में फसल का भुगतान कर दिया जायेगा जिसके लिए किसानो का स्वयं का खाता होने बहुत जरुरी है जो की आधार कार्ड से लिंक होना अनिवार्य है। हर जिले में 6000 क्रय केंद्र गेहू खरीदने के लिए सरकार द्वारा खोले जायेंगे। किसान एक बार में 100 किलो कुन्तल गेहू बेचने तक के लिए टोकन खरीद सकते है। 1 टोकन प्राप्त करने के बाद अगला टोकन लेने के लिए हप्ते भर का इन्तजार करना होगा।

नोट: उत्तर प्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) योजना के अंतर्गत गेहूं खरीद का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन आरम्भ हो चुका है। निर्धारित नियमानुसार 1 अप्रैल से 15 जून तक गेहूं की खरीदने का प्रावधान नियत किया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने वर्ष 2022-23 हेतु गेहूं की एमएसपी 2015 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया है।

उत्तर प्रदेश गेहूं खरीद से सम्बन्धित महत्वपूर्ण जानकारी

योजना का नामउत्तर प्रदेश गेहूं खरीद योजना
आरम्भ किया गयाउत्तर प्रदेश सरकार द्वारा (मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ)
विभाग का नामकृषि विभाग उत्तर प्रदेश सरकार
पोर्टल का नामई क्रय प्रणाली , ई उपार्जन पोर्टल
पात्रताउत्तर प्रदेश राज्य के सभी किसान
योजना से लाभउत्तर प्रदेश राज्य के किसान फसल ऑनलाइन माध्यम से न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर सरकारी एजेंसियों को बेच सकते हैं ।
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन माध्यम से
अधिकारी वेबसाइट (Official Website)यहाँ देखें

उत्तर प्रदेश ई-क्रय प्रणाली (UP Gehu Kharid)

उत्तर प्रदेश सरकार ने किसानों को गेहू का सही मूल्य दिलाने और कोरोना के चलते अधिक दौड़ भाग न करनी पड़े इसके लिए योगी सरकार ने गेहू बेचने की सुविधा घर बैठे उपलब्ध करवा दी है | इसके लिए यूपी सरकार ने एक पोर्टल शुरू किया है |  इस पोर्टल के माध्यम से किसान अब अपनी रबी की फसल यानि कि गेहूं को ई-क्रय प्रणाली / ई-उपार्जन पोर्टल के द्वारा ऑनलाइन ही बेच सकते है। इसके द्वारा किसानों को गेहू का उचित मूल्य पर यानि कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर सरकारी एजेंसियों को बेच सकते हैं।

UP गेहूं खरीद के लिए आवश्यक दस्तावेज़ (Document For UP Gehu Khareed)

उत्तर प्रदेश में सरकारी कीमत पर गेहू की फसल को ऑनलाइन बेचने के लिए कुछ आवश्यक दस्तावेज भी निर्धारित किये गए है | इससे सम्बंधित डाक्यूमेंट्स की जानकारी इस प्रकार है:-

  • किसान का आधार कार्ड (Aadhar Card)
  • किसान का बैंक अकाउंट पासबुक (Bank Account Detail With Passbook)
  • किसान का मोबाइल नंबर (Mobile Number)
  • किसान का पासपोर्ट साइज फोटो (Passport Size Photo)
  • किसान के खेत की राजस्व अभिलेख की जानकारी देना अनिवार्य किया गया है।
  • इसके साथ ही किसान को अपनी जमीन से सम्बंधित विवरण खसरा – खतौनी, खसरा संख्या और जमीन का रकबा एवं गेहूँ का रकबा के बारे में जानकारी देना अनिवार्य किया गया है|

उत्तर प्रदेश ई-क्रय प्रणाली से सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारी

  • इस सुविधा से किसान अपनी फसल सही समय और उचित मूल्य पर बेच सकते है, और किसानो को पैसे भी सही समय मिल डायरेक्ट उनके बैंक अकाउंट में मिल जाएंगे।
  • किसी भी मंडी में अपना गेहू ले जाने से पूर्व आपको इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर ऑनलाइन करवाना अनिवार्य है, जिसमे आपको एक टोकन प्राप्त होती है। फिर आपको टोकन के अनुसार दिए गए समय पर अपनी फसल को ले जाना होगा है।
  • उत्तर प्रदेश सरकार ने गेहूं की खरीद के लिए 6000 खरीद केंद्र पूरे राज्य में बनवाये है।
  • इस वर्ष उत्तर प्रदेश सरकार ने 60 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद का लक्ष्य रखा है, और जिसके लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) यानि कि गेहूं की खरीद की कीमत 2015 रुपये / क्विंटल मूल्य रखा गया है |
  • इस योजना का लाभ सिर्फ उत्तर प्रदेश के किसान ही उठा सकते है, अन्य राज्यों में इसके नियम अलग है या फिर वहां इस तरह की योजना लागू नहीं की गई है|

यूपी गेहूं खरीद किसान पंजीकरण 2022 में ध्यान रखने वाले कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

  • करें सभी स्टेप का पालन: यूपी गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पोर्टल पर पंजीकरण करवाने के लिए पोर्टल पर उपलब्ध स्टेप 1 से लेकर स्टेप 6 तक का पालन करना अनिवार्य है।
  • पंजीकरण प्रारूप इस स्टेप में है उपलब्ध: स्टेप 1 में पंजीकरण प्रारूप उपलब्ध है।
  • करें पंजीकरण प्रारूप डाउनलोड: इस पंजीकरण प्रारूप को डाउनलोड करके आपको प्रिंट करना होगा। जिसके पश्चात आपको इसमें सभी जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • प्रदान करें सभी भूमियों का विवरण: पंजीकरण करवाने के लिए फसल के लिए उपयोग की जाने वाली सभी भूमियों का विवरण से संबंधित जानकारी दर्ज करना अनिवार्य है।
  • दर्ज करें सभी राजसव विवरण: इसके अलावा खतौनी, खाता संख्या, प्लॉट/खसरा संख्या, भूमि का रकबा, फसल का रकबा भरना भी अनिवार्य है।
  • प्रारूप में दर्ज करें यह जानकारी भी: इस प्रारूप में आपको आधार कार्ड, बैंक पासबुक, एवं राजस्व अभिलेखों का विवरण भी दर्ज करना होगा।
  • दर्ज करें ऑनलाइन आवेदन: स्टेप 1 सफलतापूर्वक होने के बाद स्टेप 2 के माध्यम से आप ऑनलाइन आवेदन दर्ज कर सकते हैं।
  • नोट करें पंजीकरण संख्या: ऑनलाइन आवेदन करने के बाद आपको पंजीकरण संख्या अपने पास नोट करनी होगी।
  • प्रिंट करें ड्राफ्ट आवेदन पत्र: इसके पश्चात आपको स्टेप 3 के पंजीकरण ड्राफ्ट से ड्राफ्ट आवेदन पत्र प्रिंट करना होगा।
  • स्टेप 4 में करें संशोधन: यदि आपको किसी भी प्रकार की संशोधन की आवश्यकता है तो आप स्टेप 4 में यह संशोधन कर सकते हैं।
  • करें पंजीकरण लॉक: सभी सही जानकारी दर्ज करने के बाद आप स्टेप 5 में पंजीकरण लॉक कर सकते हैं। पंजीकरण लॉक करने के बाद आपके आवेदन पत्र में कोई भी संशोधन नहीं किया जा सकता।
  • करें पंजीकरण फाइनल प्रिंट: स्टेप 6 के माध्यम से आप पंजीकरण फाइनल प्रिंट कर सकते हैं। जब तक किसान द्वारा पंजीकरण लॉक नहीं किया जाएगा तब तक किसान का पंजीकरण स्वीकार नहीं किया जाएगा।
  • प्राप्त करें केंद्र प्रभारी से पावती पत्र: गेहूं को बेचने के बाद आपको केंद्र प्रभारी से पावती पत्र प्राप्त करना आवश्यक है।
  • जानकारी दर्ज करते समय रखें ध्यान: किसान द्वारा सभी प्रकार की जानकारी दर्ज करते समय विशेष सावधानी रखने की आवश्यकता है। कोई भी जानकारी आपके द्वारा गलत दर्ज नहीं की जानी चाहिए।
  • इस स्थिति में ना कराएं दोबारा पंजीकरण: वह सभी किसान जो खरीफ वर्ष 2019–20 में धान खरीद के लिए पंजीकरण करा चुके हैं उन्हें गेहूं विक्रेता के लिए दोबारा से पंजीकरण करवाने की आवश्यकता नहीं है। वह संशोधन करके या बिना संशोधन करें दोबारा से आवेदन प्रपत्र को लॉक कर सकते हैं।
  • गेहूं विक्रय के समय लाने के लिए यह महत्वपूर्ण दस्तावेज: गेहूं को बेचते समय किसान को अपना पंजीकरण प्रपत्र लाना आवश्यक है। इसके साथ किसान को कंप्यूटराइज खतौनी, फोटो युक्त पहचान पत्र, बैंक के पासबुक के प्रथम पेज की प्रति तथा आधार कार्ड लाना भी आवश्यक है।

उत्तर प्रदेश ई-उपार्जन ऑनलाइन पंजीकरण (UP Gehu Kharid Online Registration)

उत्तर प्रदेश में ऑनलाइन गेहूं बेचने के लिए सर्वप्रथम आपको सरकार द्वारा जारी किये गए ऑफिसियल पोर्टल https://eproc.up.gov.in/Uparjan/Home_Reg.aspx पर जाना होगा |

अब आवेदक को “गेहूं खरीद हेतु किसान पंजीकरण” आप्शन पर क्लिक करना होगा|

अब आपको दिए गए 6 स्टेप से आपको गुजरना होता है, उन्हें पूर्ण करने के बाद आपका पंजीकरण पूर्ण होगा |

पहला स्टेप 1. पंजीकरण प्रारूप (Registration Format)

  • पहले स्टेप में किसान के लिए 3 पेज का एक फॉर्म का प्रारूप दिया होगा, जिसे सही – सही भरना होता है|

दूसरा स्टेप 2. पंजीकरण प्रारूप (Registration Format)

  • दूसरे स्टेप में “पंजीकरण पपत्र” के विकल्प से ऑनलाइन आवेदन करना होगा |
  • इसमें किसान को अपना मोबाइल नंबर डालना होगा, और दिए गए कैप्चा कोड को भरना होगा |
  • अब किसान को अपने से सम्बंधित जानकारी को सही – सही भरना होगा |

दूसरा स्टेप 3. पंजीकरण प्रारूप (Registration Format)

  • किसान को तीसरे स्टेप में भी अपना मोबाइल नम्बर डालना होगा, फिर कैप्चा कोड भरने के बाद “आगे बढ़ें” विकल्प पर क्लिक करना होगा |
  • इसके अलावा यह फॉर्म का निरिक्षण के लिए होता है, यदि आप जानकारी फिर से सही करना चाहते है तो इसका प्रयोग करे |
  • अब नए पेज पर आने बाद दी गई सभी जानकारी को सही – सही भरें |

दूसरा स्टेप 4. पंजीकरण प्रारूप (Registration Format)

  • इस स्टेप में आपके सामने संशोधन का विकल्प आता है, इसमें आप मोबाइल नम्बर भरकर इसका प्रयोग कर सकते है |

इसके बाद आपके सामने फॉर्म खुलकर आयेगा जिसे किसान को भरना होता है |

दूसरा स्टेप 5. पंजीकरण प्रारूप (Registration Format)

  • इस स्टेप में किसान को अपने फॉर्म को लॉक करने का आप्शन दिया जाता है |
  • इसे एक बार लॉक करने के पश्चात् किसी भी प्रकार का बदलाव सम्भव नहीं है |
  • इसमें भी जाने के लिए आपको मोबाइल नम्बर डालकर प्रवेश करेंगे |

दूसरा स्टेप 6. पंजीकरण प्रारूप (Registration Format)

  • जब तक आवेदन लॉक नहीं किया जाता आप इस स्टेप में प्रवेश नहीं कर सकते है |
  • इस चरण में भी मोबाइल नम्बर डालने का आप्शन आता है , जिसे भरकर आप आगे की जानकारी के लिए आगे बढ़ पाएंगे |
  • इस तरह आपको टोकन प्राप्त हो जायेगा और आप अपने गेहूं को सरकारी एजेंसियों को बेच पाएंगे|

up gehu kharid token । पोर्टल पर आवेदन लॉक के उपरांत टोकन बनाने की प्रक्रिया

गेहूं की फसल बेचने के लिए आपको रजिस्ट्रेशन करने के साथ साथ टोकन भी बनाना होगा जिससे आपको यह पता चल पायेगा की आपको मंडी में अपनी फसल किस समय और किस दिन लेकर जानी है।

टोकन बनाने के लिए आप लॉक के उपरांत टोकन बनाये के ऑप्शन पर क्लिक करें। क्लिक करते ही आपके सामने नए पेज पर आपको पूछी गयी जानकारी जैसे: किसान पंजीयन ID या मोबाइल नंबर, कैप्चा कोड को भरना है। आप आपको आगे बड़े के दिए गए ऑप्शन पर क्लिक कर देना है। जिसके बाद ऑनलाइन टोकन पंजीकरण फॉर्म खुल जायेगा। यह टोकन किसान को उसके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर भी भेज दिया जायेगा। इस टोकन में आपका गेहूं बेचने हेतू समय और दिन निर्धारित किया गया होगा।

up gehu kharid helpline number

18001800150

यूपी गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण से जुड़े प्रश्न/उत्तर

क्या गेहूं बेचने के लिए पंजीकरण करवाना जरुरी है?

जी हां, अगर किसान अपने गेहू मार्किट प्राइस के अनुसार बेचना चाहते है तो उन्हें ऑनलाइन पोर्टल पर जाकर अपना पंजीकरण करवाना पड़ेगा। पंजीकृत किसान ही अपनी गेहूं की फसल को राज्य सरकार व क्रय केन्द्रो में बेच सकेंगे।

2022 में सरकार ने गेहूं की खरीद के लिए समर्थन मूल्य क्या रखा है?

2022 में सरकार ने गेहूं की खरीद के लिए समर्थन मूल्य 1975 रुपये कुन्तल रखा है। जिसके अंतर्गत संस्थाएं गेहूं की खरीद करेगी और 3 दिन के अंदर किसान के खाते में गेहूं का भुगतान कर देगी।

पोर्टल बनाने का उद्देश्य क्या है?

देश में चल रहे लॉकडाउन की वजह से किसान लोगो को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ा है उन्हें अपनी फसल को बेचने के लिए बहुत दिक्कते उठानी पड़ी है और वह अपनी फसलों को कम दामों में बेचने पर मजबूर हो गए थे। इसी को देखते हुए सरकार ने ऑनलाइन पोर्टल की शुरुवात की जिसके माध्यम से किसान पंजीकरण करवा कर अपनी फसल समर्थन मूल्य पर बेच सकेंगे।

क्या इस पोर्टल पर अन्य राज्य के किसान भी पंजीकरण कर सकते है?

जी नहीं, इस पोर्टल पर अन्य राज्य के किसान भी पंजीकरण नहीं कर सकते है, केवल उत्तर प्रदेश राज्य के मूलनिवासी किसान ही पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवा सकते है।

साल 2022 हेतू सरकार ने गेहूं खरीद हेतु कितने मीट्रिक टन का टारगेट रखा है?

साल 2022 हेतू सरकार ने गेहूं खरीद हेतु 55 लाख मीट्रिक टन का टारगेट रखा है।

गेहूं खरीद हेतू ऑनलाइन आवेदन के लिए क्या करना होगा?

गेहूं खरीद हेतू ऑनलाइन आवेदन के लिए आपको पोर्टल पर जाना होगा और रजिस्ट्रेशन करने के लिए 6 स्टेप्स को पूरा करना होगा जिसके बाद आप अपनी गेहूं की फसल संस्थाओ को समर्थन मूल्य पर बेच सकेंगे।

हमे उम्मीद है की हमारे द्वारा दी UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण 2022 के बारे में जानकारी आपको अच्छी लगी होगी। यदि इससे सम्बंधित कोई सवाल आपको पूछने है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। हमारी टीम आपके पूछे गए सवालो का जवाब देने की पूरी कोशिश करेगी।

Leave a Comment