मुद्रा लोन क्या है ? Mudra loan kya hai hindi me

इंडिया में कई लोगों ने योजना के अंतर्गत लोन ले करके अपना कारोबार चालू किया है और अपने पुराने कारोबार को भी आगे बढ़ाया है। इस आर्टिकल में हम आपको मुद्रा लोन क्या है के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं।

मुद्रा लोन क्या है ? Mudra loan kya hai ?

माइक्रो-यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी (MUDRA) लोन उन प्रमुख उपायों में से एक है जिसे भारत सरकार ने अति-छोटे, छोटे और मध्यम उद्यमों (MSME) को राष्ट्रव्यापी रूप से बढ़ावा देने के लिए शुरू किया है। मुद्रा लोन (Mudra Loan) योजना, मुद्रा बैंक योजना या  प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) के रूप में भी जानी जाती है, ‘मेक इन इंडिया’ अभियान की पहल के बाद इस पर अधिक ध्यान दिया गया है। योजना के तहत न्यूनतम 50,000 रुपये और अधिकतम 10 लाख रुपये तक के लोन स्टार्ट-अप्स और छोटे व्यवसाय के लिए प्रदान किए जाते हैं। मुद्रा लोन लोगों को अपना व्यवसाय बढ़ाने और विभिन्न आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करते हैं। इस योजना के माध्यम से, सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती है कि व्यापारियों को उचित लोन सुविधा प्रदान हो। फंड द अनफंडेड” के नारे साथ शुरू किया गया यह क्रांतिकारी कदम, सरकार को समाज के उपेक्षित वर्ग को आत्म निर्भर बनाने के अपने नज़रिये को साकार करने की मदद करने पर केंद्रित है।

कृषि के बाद लोगों के लिए प्रमुख रोज़गार पैदा करने वाले क्षेत्रों में से यह एक योजना है। इस योजना की शुरूआत यह भी सुनिश्चित करेगी कि व्यवसाय के मालिकों को निजी साहूकारों से पैसा उधार ना लेना पड़े जो अत्यधिक ब्याज दरों पर शुल्क लेते हैं |

मुद्रा कार्ड

मुद्रा कार्ड एक डेबिट कार्ड है जो मुद्रा लोन (Mudra Loan) के लिए आवेदन करना चाहते हैं ये उन लोन आवेदक के लिये है। जब एक लोन आवेदक मुद्रा लोन के लिए आवेदन करता है, और यदि उसे मंजूरी मिल जाती है, तो उसका मुद्रा लोन अकांउट खुलता है तथा इसके साथ कार्ड जारी किया जाता हैं। राशि मुद्रा अकांउट में डाली जाती है, इसके बाद आवेदक अपने मुद्रा अकांउट से राशि निकाल सकते हैं।

Read about >>rbi retail direct scheme Hindi

मुद्रा लोन के लिए योग्यता Eligibility for mudra loan

मुद्रा लोन के लिए शर्तें निम्नलिखित हैं:

  • व्यापार, विक्रेता और दुकानदार
  • छोटे उद्योगपति और निर्माता
  • ऐसे व्यक्ति जो कृषि से जुड़े हैं
  • व्यापारी जो एक स्टार्ट-अप शुरू करना चाहते हैं

इसके अलावा, संस्थान जो मुद्रा लोन (Mudra Loan) प्रदान करने योग्य हैं:

  • पब्लिक सेक्टर बैंक
  • प्राइवेट सेक्टर बैंक
  • क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक(RRB)
  • स्मॉल फाइनेंस बैंक( SFB )
  • माइक्रो फाइनेंस संस्थान( MFI )

मुद्रा लोन के प्रकार Type of Mudra loan

मुद्रा लोन (Mudra Loan) को तीन प्रकार में बांटा गया है:

  • शिशु लोन: इसके तहत, लोन उन लोगों को लोन दिया जाता है जो सिर्फ अपना व्यवसाय शुरू कर रहे हैं और आर्थिक मदद की तलाश कर रहे हैं। इसके अंतर्गत अधिकतम 50,000 रुपये का लोन दिया जात है। 5 वर्ष की पुनर्भुगतान अवधि के साथ इसकी ब्याज दर 10% से 12% सालाना है।
  • किशोर लोन: ये लोन उनके लिए है जिनका व्यवसाय पहले ही शुरू हो चुका है  लेकिन अभी तक स्थापित नहीं हुआ है। इस के तहत दी जाने वाली लोन की राशि 50,000 रूपए से 5 लाख रूपए के बीच होती है। ब्याज की दर लोन देने वाली संस्था के आधार पर अलग-अलग होती है। व्यवसाय की योजना के साथ-साथ आवेदक का क्रेडिट रिकॉर्ड ब्याज दर तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।लोन भुगतान की अवधि बैंक द्वारा तय की जाती है।
  • तरुण लोन: ये उन लोगों के लिए है जिनका व्यापर स्थापित हो चुका है और उसे बढ़ाने के लिए धन की आवश्यकता हो, इसमें लोन की राशि 5 लाख से 10 लाख के बीच है। ब्याज दर और भुगतान की अवधि योजना और आवेदक के क्रेडिट रिकॉर्ड पर आधारित होती है।

यदि आप मुद्रा लोन (Mudra Loan) के लिए आवेदन करते हैं, तो सिक्योरिटी या गारंटी की कोई आवश्यकता नहीं है। मुद्रा लोन के लिए योग्यता शर्तें अलग-अलग बैंकों पर निर्भर हैं। मुद्रा लोन के लिए आवेदन करने से पहले आपको अलग-अलग बैंकों के ऑफर के बारे में जान लेना चाहिए, जैसे कौन सबसे कम ब्याज दर पर लोन दे रहा है। सभी बैंक और फाइनेंशियल संस्थान अपने ग्राहकों को मुद्रा लोन नहीं दे सकते। माइक्रो फाइनेंशियल संस्थानों के अलावा कई कमर्शियल, पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर के बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, अनुसूचित शहरी सहकारी बैंक, राज्य सहकारी बैंक हैं जो ये लोन देने योग्य हैं। आप अपने बैंक से इस बारे में पूछ सकते हैं कि क्या वे मुद्रा योजना के तहत लोन प्रदान कर सकते हैं।

Bina Security Mudra Loan kaise le

Bina Security Mudra Loan kaise le

मुद्रा लोन का मुख्य उद्देश्य

रोज़गार पैदा करने के लिए विक्रेताओं, दुकानदारों को लोन प्रदान करने, परिवहन वाहन खरीदने के साथ-साथ छोटे व्यवसायों को मशीनरी खरीदने आदि के लिए मुद्रा लोन को शुरू किया गया है।

व्यापार विक्रेताओं और दुकानदारों के लिए मुद्रा

मुद्रा लोन (Mudra Loan) योजना विक्रेताओं और दुकानदारों के लिए एक बड़ी मदद हो सकती है 50,000 रु. तक की लोन की राशि प्राप्त करके, विभिन्न व्यावसायिक गतिविधियों, व्यापारिक और गैर-कृषि गतिविधियों के लिए 10 लाख रु. तक की लोन की राशि का लाभ उठा सकते हैं।

खानपान संबंधित क्षेत्र

टिफिन सेवाओं, फूड स्टॉल, कोल्ड स्टोरेज, में काम करने वाले व्यवसायी मुद्रा लोन योजना का लाभ उठा सकते हैं और मुद्रा फंड की मदद से अपने व्यवसाय को बढ़ा सकते हैं।

कपड़ा उद्योग

कपड़ा उद्योग मुद्रा लोन योजना की मदद से हथकरघा क्षेत्र, फैशन डिज़ाइनिंग, परिधान डिज़ाइनिंग, खादी कार्य या किसी भी पारंपरिक या आधुनिक वस्त्र कार्य जैसे बहुत से लाभ उठा सकते हैं।

 कृषि गतिविधियाँ

डेयरी फार्मिंग, कुक्कुट/मत्स्य/पशुधन पालन, लंबी और छोटी नहरों और कुओं की उन्नति जैसी कुछ कृषि गतिविधियाँ प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की लोन योजना के अंतर्गत आती हैं|

मुद्रा की ज़िम्मेदारियां                                                                                                              

भारत सरकार के “फंड द अनफंडेड” के सपने को साकार करने में एक महत्वपूर्ण कारक होगा। यहां एजेंसी की कुछ मुख्य जिम्मेदारियां निम्नलिखित हैं:

  • माइक्रो स्मॉल और मीडियम व्यवसायों के लिए नीतियां निर्धारित करना
  • MFIसंस्थाओं का रजिस्ट्रेशन कराना
  • MFI संस्थाओं को प्रमाणित करना
  • फाइनेंस संस्थानों तक स्मॉल बिज़नस यूनिट (SBU) की पहुँच उपलब्ध कराना
  • ग्राहक सुरक्षा और रीकवरी के तरीकों को सुनिश्चित करने
  • मुद्रा लोन (Mudra Loan) के माध्यम से फाइनेंशियल सहायता प्राप्त करने में नए व्यापारियों की सहायता करना
  • MSME को मुद्रा लोन देने के लिए बैंकों और MFI को रेगुलेट करना/ अनुमति देना

मुद्रा लोन के लाभ और विशेषताएं

  • मुद्रा लोन के लिए लोन की कोई न्यूनतम राशि नहीं है।
  • योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदक को किसी भी सिक्योरिटी/ गारंटी देनी की आवश्यकता नहीं है।
  • मुद्रा लोन की कोई प्रोसेसिंग फीस नहीं है।
  • सभी गैर-कृषि व्यापार, इस लोन का लाभ उठा सकती हैं।

आवश्यक दस्तावेज़

जो दस्तावेज मुद्रा लोन के आवेदन पत्र के साथ जमा करने होते हैं, वे निम्नलिखित हैं:

  • पहचान पत्र(आधार कार्ड/ मतदाता पहचान पत्र/ पासपोर्ट/ ड्राइविंग लाइसेंस, आदि)
  • निवास प्रमाण पत्र(आधार कार्ड/ मतदाता पहचान पत्र/ पासपोर्ट/ टेलीफोन बिल/ बैंक स्टेटमेंट, आदि)
  • एक विशेष श्रेणी जैसेSC, ST, OBC या अल्पसंख्यक समूह का हिस्सा होने का प्रमाण प्रस्तुत करना चाहिए, यदि लागू हो।
  • व्यापार का लाइसेंस(यदि कोई हो तो)
  • व्यावसायिक उपयोग के लिए खरीदी जाने वाली वस्तुओं का कोटेशन(अगर कोई हो तो)
  • आवेदक के पासपोर्ट साइज के 2 फोटो

आपको यह भी सुनिश्चित करना होगा कि आप आवेदन पत्र बैंक को प्रस्तुत करने से पहले ठीक से भरें। अगर आप स्टार्ट-अप कर रहें है, तो आपको अपना व्यावसायिक योजना प्रस्तुत करनी होगी और लोन के लिए बैंक की स्वीकृति प्राप्त करनी होगी।

ग्रामीण और कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

सहयोग करें

आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:


  • Paytm: 9650438558
  • UPI: 9650438558@paytm

Leave a Comment