Panchayat Chunav: दो से ज्यादा हैं बच्चे और नहीं हैं पढ़े-लिखे तो चुनाव में नहीं हो पाएंगे खड़े! इस प्रावधान पर चल रहा है मंथन

आगामी पंचायत चुनाव को लेकर यूपी की योगी सरकार तैयारियों में जुटी है. चुनाव लड़नें वालों के दो बच्चों और न्यूनतम शैक्षिक योग्यता अनिवार्य करने को लेकर तमाम कयास लगाए जा रहे हैं. अगर ऐसा होगा तो किसी अंगूठा टेक व्यक्ति का प्रधान, ब्लॉक प्रमुख अथवा जिला पंचायत अध्यक्ष व प्रतिनिधि बन पाना संभव नहीं होगा.

अभी तक नहीं लिया गया है कोई निर्णय
यूपी के पंचायती राज मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने बताया कि कई प्रदेशों में पंचायत चुनावों में चुनाव लड़नें वाले प्रत्याशियों की शैक्षिक योग्यता और दो बच्चों की बाध्यता वाला नियम लागू है. हालांकि, यूपी सरकार ने अभी इस पर कोई निर्णय नहीं लिया है. अभी इस पर कोई चर्चा नहीं हुई है. लेकिन ये सब मुख्यमंत्री के संज्ञान में है उन्हें इस पर निर्णय लेना है.

मुरादाबाद: आगामी पंचायत चुनाव को लेकर यूपी की योगी सरकार तैयारियों में जुटी है. चुनाव लड़नें वालों के दो बच्चों और न्यूनतम शैक्षिक योग्यता अनिवार्य करने को लेकर तमाम कयास लगाए जा रहे हैं. अगर ऐसा होगा तो किसी अंगूठा टेक व्यक्ति का प्रधान, ब्लॉक प्रमुख अथवा जिला पंचायत अध्यक्ष व प्रतिनिधि बन पाना संभव नहीं होगा.

अभी तक नहीं लिया गया है कोई निर्णय
यूपी के पंचायती राज मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने बताया कि कई प्रदेशों में पंचायत चुनावों में चुनाव लड़नें वाले प्रत्याशियों की शैक्षिक योग्यता और दो बच्चों की बाध्यता वाला नियम लागू है. हालांकि, यूपी सरकार ने अभी इस पर कोई निर्णय नहीं लिया है. अभी इस पर कोई चर्चा नहीं हुई है. लेकिन ये सब मुख्यमंत्री के संज्ञान में है उन्हें इस पर निर्णय लेना है.

विधानसभा चुनाव पर पड़ेगा असर
गौरतलब है कि 2022 में यूपी में विधान सभा चुनाव होने हैं.  उससे पहले 2021 के पंचायत चुनावों में योगी सरकार पूरे दम खम से उतरने वाली है. अगर दो बच्चों की बाध्यता और अनिवार्य शैक्षिक योग्यता की शर्त योगी सरकार चुनाव में लगा देती है तो ये यूपी में पंचायत चुनाव में बड़ा असर डालेगा.

इन राज्यों में लागू है अनिवार्य न्यूनतम शैक्षक योग्यता का नियम
हरियाणा, राजस्थान और उड़ीसा जैसे राज्यों में ग्राम पंचायत सदस्य व प्रधान से लेकर क्षेत्रीय व जिला पंचायत सदस्यों का चुनाव लड़ने वालों की न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता अनिवार्य है. यहां अलग-अलग पदों के लिए कक्षा आठ से लेकर इंटरमीडिएट परीक्षा तक पास होना जरूरी है.

मार्च तक हो सकते हैं चुनाव 
यूपी पंचायत चुनाव मार्च तक कराने के संकेत दिए गए. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सभी मंत्री व कार्यकर्ता इस चुनाव की तैयारियों में जुट जाएं. वोटर लिस्ट में खामियां दूर करवा कर इसे समय से तैयार करवाया जाए. सरकार के कामकाज को जनता के बीच ले जाया जाए

Leave a Comment