Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2021 परंपरागत कृषि विकास योजना 2021

Paramparagat Krishi Vikas Yojana Apply | परम्परागत कृषि विकास योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | Paramparagat Krishi Vikas Yojana Form | परम्परागत कृषि विकास योजना लॉगिन

Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2021 भारत देश कृषि प्रधान देश है। हमारे देश मे कृषि का प्रभावो पहले से ही ज्यादा रहा है। देश मे आने वाली प्रत्येक सरकार हर साल कृषि के लिए कोई न कोई योजना का निर्माण करती है। निर्माण की गई योजनाओ का लक्ष्य कृषि के स्तर मे सुधार लाना होता है। आज हम अपने इस आर्टिकल में एक ऐसी योजना “परंपरागत कृषि विकास योजना” की जानकारी लेके आएं हैं। केंद्र सरकार द्वारा जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए “Paramparagat Krishi Vikas Yojana” शुरू की गयी है। इस योजना का संचालन वर्ष 2015 में किया गया है। योजना को शुरू करने का उद्देश्य पारंपरिक ज्ञान और आधुनिक तकनीक के मिश्रण से जैविक कृषि के मॉडल को विकसित करना है। जिससे मिटटी की उर्वरा शक्ति लम्बे समय तक बनी रहे।

योजना से सम्बंधित कुछ मुख्य बातें। 

  • परम्परागत कृषि विकास योजना (PKVY) क्या है?
  • PKVY परम्परागत कृषि विकास योजना की विशेषताएं
  • परंपरागत कृषि विकास योजना का मुख्य उद्देश्य
  • परंपरागत कृषि विकास योजना के अंतर्गत जैविक खेती

PKVY Yojna के तहत किसानो को जैविक खेती के लिए सरकार द्वारा वित्तीय सहायता प्रदान की जायेगी। वित्तीय अनुदान किसानों को सामूहिक दृष्टिकोण और पीजीएस प्रमाणन प्रणाली के आधार पर प्रदान किया जाएगा। भागीदारी गारेंटी प्रणाली (PGS) के माध्यम से फसलों के आर्गेनिक होने की जाँच की जायेगी। किसानों को जैविक खेती के लिए वित्तीय सहायता प्राप्त करने के लिए 500 से 1000 हेक्टेअर भूमि पर 20 से 50 किसान सदस्यों का एक समूह बनाना होगा। किसानो के एक समूह को अधिकतम 10 लाख रुपये का वित्तीय अनुदान दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त पीजीएस सर्टिफिकेशन के लिए 4.95 लाख रुपये प्रदान किया जाएगा। पीकेवीवाई योजना की विस्तृत जानकारी के लिए यह आर्टिकल अंत तक पढ़ें।


परम्परागत कृषि विकास योजना (PKVY) क्या है?

Paramparagat Krishi Vikas Yojana Details – पीकेवीवाई योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा जैविक खेती को प्रोत्साहन दिया जाएगा। इस योजना का आशय किसानो का स्वास्थ्य और जमीन की गुणवातता को कायम रखना होगा। परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत सरकार जैविक खेती को बढ़ावा देते हुये किसानो को प्रशिक्षित और सहायता करेगी। इस योजना के माध्यम से सरकार द्वारा किसानो को जैविक खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। सरकार किसानो को इस योजना के तहत परंपरागत तरीको से कृषि करने के लिए प्रोत्साहित करेगी, जिससे उन्हे रसायन मुक्त खेत उपज मिले और साथ ही जमीन की गुणवत्ता को भी सुधारा जा सके। 

योजना का नामपरम्परागत कृषि विकास योजना
लांच किया गया2015 में
किसने लांच कियाकेंद्र सरकार द्वारा
योजना का उदेश्यजैविक खेती को बढ़ावा देना
लाभमिटटी की उर्वरा शक्ति बढ़ेगी
आधिकारिक वेबसाइटpgsindia-ncof.gov.in

PKVY परम्परागत कृषि विकास योजना की विशेषताएं


Features of Paramparagat Krishi Vikas Yojana – परम्परागत कृषि विकास योजना की विशेषताएं निम्नलिखित हैं।

  • PKVY Yojna के अंतर्गत जो हमारे देश के किसानों है वह और भी जैविक खेती करने के लिए प्रेरित होंगे।
  • इस योजना के अंतर्गत 50 से ज्यादा किसान जैविक खेती करने के लिए 50 एकड़ जमीन वाले समूह का निर्माण करेंगे और इसी तरह 5.0 लाख एकर क्षेत्र को कवर करने वाले 3 वर्षों के दौरान 10,000 समूह जैविक खेती के अंतर्गत बनाए जाएंगे।
  • पीकेवीवाई योजना के अंतर्गत प्रमाणन पर खर्च के लिए किसानों पर कोई खर्च नहीं होगा।
  • हर एक किसान को 3 वर्ष में बीज के लिए, फसलों की कटाई और बाजार में उपज परिवहन के लिए 20,000 रुपये प्रति एकर प्रोवाइड किये जाऐंगे।
  • इस योजना के अंतर्गत पारंपरिक संसाधनों का उपयोग किया जाएगा और इसके साथ साथ जैविक खेती (Organic Farming) को बढ़ावा दिया जाएगा और जैविक उत्पादों को बाजार से जोड़ा जाएगा।
  • यह किसानों को जोड़के करके जैविक उत्पादन के घरेलू उत्पादन और प्रमाणीकरण में वृद्धि करेगा।

परंपरागत कृषि विकास योजना का मुख्य उद्देश्य


Main Objective of Paramparagat Krishi Vikas Yojana – परंपरागत कृषि विकास योजना के निम्नलिखित उदेश्य हैं।

  • जैविक कृषि को बढ़ावा देना है, जिससे रासायनिक खाद्य, कीटनाशक से होने वाले बीमारियों किसानो की सेहत की सुरक्षा हो सके। इसके साथ हीं मिटटी की उपजाऊ शक्ति को नष्ट होने से बचाया जा सके।
  • परम्परागत और वैज्ञानिक विधि के मिश्रण से तैयार कृषि मॉडल पर आधारित खेती की जानकारी से किसानो को अवगत करवाना है। जिससे किसान कम कृषि लागत में ज्यादा फसल पैदा करके अपनी आय को बढ़ाने में सफल हो सके।
  • मानव उपभोग के लिए रसायन मुक्त एवं पौष्टिक फसल का उत्पादन हो सके।
  • पर्यावरण को हानिकारक कार्बनिक रसायनों से मुक्त करने के लिए जैविक खेती को प्रोत्साहन देना है।
  • किसानो को समूह आधार पर स्थानीय और राष्ट्रीय बाजार से जोड़कर किसानो को उधमी बनाना
  • पीजिएस प्रणाली के माध्यम से फसलो की प्रमाणीकरण की सुविधा किसानों को उपलब्ध करवाना है।

परंपरागत कृषि विकास योजना के अंतर्गत जैविक खेती


Organic Farming under Paramparagat Krishi Vikas Yojana (PKVY):

  • ऑर्गेनिक फार्मिंग के लिए समर्पित जैविक खेती पोर्टल  नॉलेज प्लेटफॉर्म के साथ-साथ मार्केटिंग प्लेटफॉर्म के लिए तैयार किया गया है।
  • इस पोर्टल पर जैविक खेती, इनपुट आपूर्तिकर्ता, प्रमाणन एजेंसी (पीजीएस), और विपणन एजेंसियों में शामिल किसानों का विवरण उत्पादन से विपणन तक के सभी कार्यों की सुविधा उपलब्ध है।
  • पीकेवीवाई / पीजीएस समूह क्षमता निर्माण, तकनीकी जानकारी, विपणन चैनलों / अन्य समूहों के साथ संचार और संभावित उत्पादकों और उपभोक्ताओं को उनकी उपज का प्रत्यक्ष विपणन के लिए किसान इस पोर्टल के माध्यम से लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

Source : https://pgsindia-ncof.gov.in/pkvy/index.aspx

परम्परागत कृषि विकास योजना का आवेदन कैसे करें?

अगर आप भी पंजीकरण करना चाहते है तो आपको पंजीकरण प्रक्रिया का पता होना बहुत जरुरी है। हम आपको योजना की आवेदन प्रक्रिया के बारे में जानकारी देने जा रहे है। जानकारी जानने के लिए दिए गए स्टेप्स को पूरा पढ़े।

  • आवेदक को सबसे पहले परम्परागत कृषि विकास योजना की आधिकरिक वेबसाइट पर जाना है।
  • जिसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आजायेगा।
  • होम पेज पर आपको अप्लाई नाउ पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने नया पेज खुल जायेगा।
  • नए पेज पर आपको फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारियों जैसे: नाम, मोबाइल नंबर, लिंग, पता आदि को भरना है।
  • और अब आपको फॉर्म में पूछी गयी जानकारी को भरना है।
  • सभी जानकारी भरने के पश्चात एक बार फॉर्म को दोबारा पढ़ लें और यदि कोई गलती हो तो उसका सुधार कर लें।
  • जिसके बाद आपको सबमिट बटन पर क्लिक कर दें।
  • क्लिक करने के बाद आपकी पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

ऑफलाइन माध्यम से आवेदन करने के लिए आवेदक को अपने निजी कार्यालय में जाना है। आवेदक कार्यालय जाकर पंजीकरण कर सकते है और इससे मिलने वाला लाभ प्राप्त कर सकते है।

लॉगिन प्रक्रिया

  • लॉगिन करने के लिए आप योजना की आधिकरिक वेबसाइट पर विजिट करें।
  • यहाँ आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आजायेगा।
  • होम पेज पर आपको लॉगिन के दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करने के बाद आपको यूजर नेम, पासवर्ड और कैप्चा कोड को भरना होगा।
  • जिसके बाद लॉगिन के ऑप्शन पर क्लिक कर देना है।
  • क्लिक करते ही आप लॉगिन हो पाएंगे।

PKVY से जुडी जानकारी प्राप्त करने की प्रक्रिया

योजना से जुडी जानकारी जानने के लिए दिए गए स्टेप्स को पूरा पढ़े।

  • सबसे पहले परम्परागत कृषि विकास योजना की आधिकरिक वेबसाइट पर जाना है।
  • जिसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आजायेगा।
  • होम पेज पर आपको अबाउट KVPY पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने कई ऑप्शन आ जायेंगे जिसके बाद जानकारी आप स्क्रीन पर देख सकेंगे।

कांटेक्ट डिटेल्स कैसे देखें

  • सर्वप्रथम आपको परम्परागत कृषि विकास योजना की आधिकरिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आजायेगा।
  • होम पेज पर आपको कांटेक्ट डिटेल्स पर क्लिक करना है।
  • जिसके बाद आपके सामने नया पेज खुल जायेगा।
  • नए पेज पर आपको स्क्रीन पर कांटेक्ट डिटेल्स दिखाई देंगी

कृषि परम्परागत विकास योजना से जुड़े प्रश्न/उत्तर

PKVY क्या है?

योजना के माध्यम से किसान भाईयों को जैविक खेती करने का लक्ष्य सरकार ने प्रदान किया है। जैविक खेती के माध्यम से कृषि क्षेत्र का विकास और अधिक बढ़ पायेगा और अच्छी गुणवणता वाली मिटटी की उवर्रता बढ़ेगी।

कृषि परम्परागत विकास योजना में किसानों को कितने रुपये की धनराशि व कितने समय के लिए प्रदान की जाएगी?

कृषि परम्परागत विकास योजना में किसानों को 50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता धनराशि 3 साल के लिए प्रदान की जाएगी।

Krishi Paramparagat Vikas Yojana का आवेदन करने की आधिकारिक वेबसाइट क्या है?

कृषि परम्परागत विकास योजना का आवेदन करने की आधिकारिक वेबसाइट https://pgsindia-ncof.gov.in है।

योजना की आवेदन प्रक्रिया क्या है?

आवेदक योजना का आवेदन ऑनलाइन तथा ऑफलाइन मोड द्वारा कर सकते है। अगर आप ऑनलाइन माध्यम से आवेदन करते है तो आपको योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना है और अगर आप ऑफलाइन से आवेदन करते है तो आपको सम्बंधित कार्यालय जाकर आवेदन कर सकते है।

योजना का संचालन किसके द्वारा किया जाता है?

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा योजना का संचालन किया जाता है।

क्या इस योजना का आवेदन देश के सभी नागरिक किसान कर सकते है?

जी हाँ, कृषि परम्परागत विकास योजना का आवेदन देश के सभी नागरिक किसान कर सकते है और इसका लाभ प्राप्त कर सकते है।

हमने अपने आर्टिकल में परम्परागत कृषि विकास योजना से सम्बंधित सभी जानकारियों को हिंदी भाषा में विस्तारपूर्वक बता दिया है, यदि आपको जानकारी पसंद आयी हो तो आप हमे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते है या इससे सम्बंधित कोई भी सवाल या जानकारी आपको जाननी है तो आप हमे मैसेज कर सकते है। हम आपके सभी सवालों के जवाब देने की जरूर कोशिश करेंगे।

Leave a Comment