नेक मददगार योजना: आप भी बनिए सड़क हादसों में मददगार, संतुष्टि संग मिलेगा पुरस्कार

Nek madadgar yojana : उप परिवहन आयुक्त एवं सड़क सुरक्षा समिति के प्रमुख सुधांशु गर्ग ने बताया कि परिवहन मंत्रालय 15 अक्तूबर से नेक मददगार पुरस्कार योजना शुरू करने जा रही है। सरकार की बड़ी पहल- घायल को अस्पताल पहुंचाओ, पांच हजार पाओ

नेक मददगार योजना

हादसो में जान गंवाने वाले लोगों को बचाने के लिए सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने एक नई पहल की है। इसके तहत सड़क मंत्रालय ने नेक मददगार’ योजना की शुरुआत की है, जिसके तहत सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायलों की जान बचाने के लिए एक घंटे के अंदर अस्पताल पहुचाने वाले को 5 हजार रुपए इनाम दिया जाएगा। इतना ही नहीं इसमें राष्ट्रीय स्तर पर टॉप 10 में शामिल होने पर 1 लाख का इनाम दिया जाएगा।

Nek Madadgar Yojana 2022

योजना का नाम नेक मददगार योजना
किस ने लांच की सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय
लाभार्थीभारत के नागरिक
उद्देश्यसड़क दुर्घटना पीडि़तों की मदद
आधिकारिक वेबसाइटजल्द लॉन्च की जाएगी
बजट₹5,000 करोड़
साल2021
Nek Madadgar Yojana 2021 overview

Starting Date

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रधान सचिवों और परिवहन सचिवों को लिखे पत्र में कहा कि यह योजना 15 अक्टूबर, 2021 से 31 मार्च, 2026 तक प्रभावी होगी। मंत्रालय ने सोमवार को ‘‘नेक मददगार को पुरस्कार देने की योजना’’ के लिए दिशानिर्देश जारी किए।

मंत्रालय ने सोमवार को ‘नेक मददगार को पुरस्कार देने की योजना’ के लिए दिशानिर्देश जारी किए। मंत्रालय ने कहा कि इस योजना का मकसद आपातकालीन स्थिति में सड़क दुर्घटना पीडि़तों की मदद करने के लिए आम जनता को प्रेरित करना है। नकद पुरस्कार के साथ एक प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा। मंत्रालय ने कहा कि इस पुरस्कार के अलावा राष्ट्रीय स्तर पर 10 सबसे नेक मददगारों को एक-एक लाख रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा।

पांच हजार का पुरस्कार मिलेगा 

इस योजना के तहत उन लोगों को पांच हजार रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा, जो कि हादसे के तुरंत बाद घायलों को अस्पताल में भर्ती कराते हैं। सरकार का मकसद है कि हादसों के घायलों को नजदीकी अस्पताल में तुरंत इलाज मिल सके, ताकि हादसों में मौतों का आंकड़ा कम हो सके।

टॉप-10 मददगार को एक-एक लाख

nek madadgar yojana के तहत जहां हर हादसे में मदद करने वालों को पांच हजार रुपये का पुरस्कार मिलेेगा तो दूसरी ओर देश के टॉप-10 नेक मददगारों को हर साल सरकार एक-एक लाख रुपये का पुरस्कार देगी। सभी मददगारों को प्रशस्ति पत्र भी दिया जाएगा। इसका लाभ लेने वालों को गोल्डन आवर के हिसाब से चुना जाएगा। मोटर वाहन अधिनियम के तहत किसी भी सड़क हादसे के बाद एक घंटे के समय को गोल्डन आवर कहा जाता है, जिसमें चोटिल व्यक्ति को इलाज दिलाकर मौत से बचाया जा सकता है।

Download PDF https://morth.nic.in/sites/default/files/circulars_document/Scheme_for_grant_of_awards_to_Goods_Samaritan_0001.pdf

अब पोर्टल पर रखा जाएगा मददगारों का पूरा रिकॉर्ड
इंस्पेक्टर मनोज इंदौलिया ने बताया कि ‘नेक मददगार को पुरस्कार देने के लिए मंत्रालय द्वारा नए पोर्टल की शुरुआत की जाएगी। इस पोर्टल में मददगारों का रिकार्ड रखा जाएगा। पोर्टल पर इस जानकारी को स्थानीय पुलिस, अस्पताल-ट्रामा सेंटर स्टाफ द्वारा अपलोड किया जा सकेगा। इसमें मददगारों को दी जाने वाली राशि जिला प्रशासन द्वारा दी जाएगी।

सड़क हादसों से हर साल बढ़ता मौतों का आंकड़ा बेहद चिंताजनक है। राज्य सरकार भी इसे रोकने की दिशा में लगातार प्रयास करती रही है। अब केंद्र सरकार ने नेक मददगार योजना शुरू की है, जिससे निश्चित तौर पर समय से इलाज मिलने में आसानी होगी और अधिक से अधिक लोगों की जान बचाई जा सकेगी।

1 thought on “नेक मददगार योजना: आप भी बनिए सड़क हादसों में मददगार, संतुष्टि संग मिलेगा पुरस्कार”

Leave a Comment