MSME Registration Online : एमएसएमई क्या है व उद्योगों के लिए इसकी रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया की जानकारी

एमएसएमई, निवेश के लिए छोटे आकार की एक संस्था है, जिसमे कुशल और अकुशल व्यापारी हो सकते है. जो बड़ी संख्या में बेरोजगारों को रोजगार के अवसर प्रदान करके भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में अपनी अच्छी भूमिका निभाते है. ये निर्यात के क्षेत्र में योगदान, निर्माण क्षेत्र को बढ़ाना और कच्चे माल, बुनियादी सामान आपूर्ति के द्वारा बड़े उद्योगों को समर्थन प्रदान करते है. भारत सरकार एमएसएमईडी अधिनियम 2006 के तहत पंजीकृत कंपनियों या व्यापार के माध्यम से विभिन्न योजनाओं को बढ़ावा देने के लिए सब्सिडी देती है.

MSME पंजीकरण क्या है?

Micro, Small and Medium Enterprise (MSME) रजिस्ट्रेशन एक सरकारी रजिस्ट्रेशन है जिसे सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय द्वारा संचालित किया जाता है। ये रजिस्ट्रेशन उन व्यवसाय के लिए है जो लघु, सूक्ष्म या फिर मध्यम वर्ग उद्योगों में आते है और इसे मंत्रालय द्वारा वर्गीकृत किया गया है जिसके तहत अगर किसी व्यवसाय को इसमें पंजीकृत किया जाता है तो उसे कई सारे सरकारी फायदे मिलते है।

भारत सरकार छोटे- बड़े व्यापारिक संगठनों को उनके व्यापार में कठिनाईयों का सामना ना करना पड़े, इस बात का ध्यान रखते हुए उन्हें एमएसएमई में आसानी से पंजीकरण करने की सुविधा प्रदान करती है.

भारत सरकार ने लघु उधोगो को बढ़ावा देने के लिए कई सारी योजनाएं शुरू की है जिनका लाभ MSME रजिस्ट्रेशन के माध्यम से उठाया जा सकता है।

कई सारी सरकारी स्कीम्स ऐसी भी है जिनमे  बिना MSME का रजिस्ट्रेशन करवाए लाभ नहीं उठाया जा सकता है तो इसे करवाना बहुत जरुरी है।

MSME online Registration :  पंजीकरण कैसे करे ?

एमएसएमई में पंजीकरण आप ऑफ़ लाइन और ऑनलाइन दोनों ही माध्यम से कर सकते है.

MSME Registration Offline : ऑफ़ लाइन पंजीकरण

  • सबसे पहले जिस विभाग के लिए आप उद्योग शुरू कर रहे है, उसके साथ एक आवेदन पत्र में जो आपकी बुनियादी सूचना है उसे भरे, उसके बाद संबंधित दस्तावेज के साथ एमएसएमई ऑफिस में पंजीकृत करा लें.
  • आवेदन और दस्तावेज़ को जमा करने से पहले किसी विशेषज्ञ से सारे दस्तावेज को प्रमाणित करा ले, उसके बाद आवेदन को जमा कर दे, आप आवेदन को जिस भी जिले में अपना व्यवसाय शुरू कर रहे है वहां के जिला उद्योग केंद्र में जाकर जमा कर सकते है.
  • इसके बाद विभाग के द्वारा, आपके आवेदन को आपके दस्तावेज़ के साथ एमएसएमई रजिस्ट्रार के पास फाइल किया जायेगा, फिर विशेषज्ञ उसका सत्यापन करेंगे. सत्यापन के बाद आवेदन स्वीकृत हो जाने के बाद आपको एमएसएमई प्रमाण पत्र जारी कर दिया जायेगा और आपको कोरियर और इमेल के माध्यम से सूचित कर दिया जायेगा. 

ऑनलाइन पंजीकरण (MSME Registration Online)

  • ऑनलाइन पंजीकरण के लिए भारत सरकार द्वारा जारी किये गए पोर्टल या लिंक http://udyogaadhaar.gov.in/UA/UAM_Registration.aspx पर जाकर दिए गए निर्देश के अनुसार आधार संख्या, मालिक का नाम इत्यादि को भरने के बाद आवेदन जमा कर दे.
  • उसके बाद आपके पंजीकृत नम्बर या इमेल पर एक ओटीपी अर्थात यूनिक नम्बर आएगा, जिसे आपको आवेदन में डालना होगा और नीचे दिए गए कैप्चा को आवेदन में डालकर इसे जमा कर दें.           
  • जब आप एमएसएमई उद्योग शुरू करते है तब आपको एक अंतिम पंजीकरण के लिए आवेदन करना होता है, जिसके बाद आपको अंतिम एमएसएमई प्रमाणपत्र दिया जाता है. उत्पादन शुरू होने के बाद आप स्थायी प्रमाणपत्र के लिए आवेदन कर सकते है.  

MSME पंजीकरण (MSME Registration ) के फायदे निम्नलिखित हैं-

  • MSME रजिस्ट्रेशन के बाद आपको आसानी से लोन मिल सकेगा वो भी कम ब्याज पर जैसे आप MUDRA स्कीम का लाभ ले सकते है जिसके तहत आसानी से लोन मिल सकेगा। 
  • एमएसएमई पंजीकरण के बाद, आपकी COST कम हो जाएगी क्योंकि विभिन्न योजनाएं हैं जो निर्माता को सब्सिडी प्रदान करती हैं। जीएसटी में भी छूट दी जा रही  है और आपको कई सारे टैक्स बेनिफिट्स भी मिलेंगे। 
  • इसे प्राप्त करने के बाद, आप विदेशी एक्सपो में भाग ले सकते हैं और आपको इसके लिए सरकार से सब्सिडी मिलेगी।
  • MSME रजिस्ट्रेशन के बाद आप कई सारी सरकारी स्कीम्स का फायदा उठा सकेंगे और सरकार आपको कई सारी स्कीम्स के तहत आपको सब्सिडी भी देगी।  बिना MSME रजिस्ट्रेशन आप उन सरकारी स्कीम्स का लाभ नहीं उठा सकेंगे जिनमे MSME रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है।

एमएसएमई लोन के लिए आवेदन कैसे करें?

एमएसएमई लोन के लिए ऑनलाइन एवं ऑफलाइन दोनों तरह से आवेदन किया जा सकता है. ऑनलाइन आवेदन के लिए msme.gov.in में जाकर आवेदन कर सकते है.एमएसएमई लोन के लिए आवेदन कौन कर सकता है?

राज्य एवं सेंट्रल की कोई भी आर्गेनाइजेशन
इंडस्ट्री/एंटरप्राइज
यह लोन उसी कंपनी को मिल सकता है, जो कंपनी एक्ट के तहत रजिस्टर हो
जो आर्गेनाइजेशन कम से कम 3 से काम कर रही हो और उसका रिकॉर्ड अच्छा रहा हो
जिस कंपनी ने पिछले 3 साल में लगातार ऑडिट भरा होएमएसएमई लोन की लिमिट क्या है?

सूक्ष्म के लिए 1 करोड़, लघु के लिए 10 करोड़ एवं मध्यम के लिए 20 करोड़ लिमिट है.एमएसएमई लोन के लाभ क्या है?

बैंक से लाभ, राज्य सरकार द्वारा छूट, कर लाभ, कम इंटरेस्ट में लाभएमएसएमई के तहत लोन कितना मिलता है?

एमएसएमई लोन के तहत 1 करोड़ से 20 करोड़ तक का लाभ मिल सकता है.एमएसएमई लोन लेने पर इंटरेस्ट रेट क्या है?

एमएसएमई लोन पर इंटरेस्ट रेट 8.30 – 6.25 के बीच है.

निष्कर्ष 

जैसे की आप ऊपर दिए गए लेख में देख सकते है की MSME रजिस्ट्रेशन आज के समय में कितना जरूरी है क्योंकि इसके बिना आप सरकार की कई सारी स्कीम्स से वंचित रह जायेंगे तो अगर आपका व्यवसाय MSME के लिए रजिस्टर हो सकता है तो उसे जरूरी करवाए, ऊपर MSME का वर्गीकरण किया गया है तो उस हिसाब से अपने व्यवसाय का MSME रजिस्ट्रेशन ज़रूर करवाए जैसे की आप देख सकते है की आज कल MSME Registration online भी करवा सकते है।

Leave a Comment