प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना 2022 : फ्री एलईडी बल्ब पंजीकरण

Pradhanmantri Gramin Ujala Yojana 2022 सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों का विकास किया जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए सरकार तरह-तरह की योजनाएं लांच करती हैं। आज हम आपको ऐसी ही एक योजना से संबंधित जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। जिसका नाम प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना है। इस लेख को पढ़कर आपको इस योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त होगी। जैसे कि प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना क्या है?, इसके लाभ, उद्देश्य, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि। तो दोस्तों यदि आप Pradhanmantri Gramin Ujala Yojana 2022 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप से निवेदन है कि आप हमारे इस लेख को अंत तक पढ़ें।

Pradhanmantri Gramin Ujala Yojana 2022

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के अंतर्गत ग्रामीण इलाकों के परिवार को 10-10 रुपए में एलईडी बल्ब वितरित किए जाएंगे। इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक परिवार को लगभग तीन से चार एलईडी बल्ब प्रदान किए जाएंगे। Pradhanmantri Gramin Ujala Yojana 2022 को पब्लिक सेक्टर की एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड द्वारा अगले महीने वाराणसी समेत देश के पांच शहरों के ग्रामीण इलाकों में आरंभ किया जाएगा। अप्रैल तक इस योजना को पूरे भारत में लागू कर दिया जाएगा।

पीएम ग्रामीण उजाला योजना लॉन्चिंग

इस को लॉन्च करने का मुख्य उद्देश्य एनर्जी एफिशिएंसी को गांव तक ले जाना है। PM Gramin Ujala Yojana 2022 के माध्यम से बिजली के बिल में कमी आएगी। जिससे कि लोगों की बचत बढ़ेगी। इस योजना के अंतर्गत लगभग 15 से 20 करोड़ लाभार्थियों को 60 करोड़ एलईडी बल्ब बांटे जाएंगे। प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के माध्यम से ना सिर्फ लोगों के पैसों में बचत होगी बल्कि एक बेहतर जीवन प्राप्त होगा। इस योजना के माध्यम से एलईडी बल्ब की मांग भी बढ़ेगी जिससे निवेश में बढ़ोतरी होगी।

Key Highlights Of  Pradhanmantri Gramin Ujala Yojana 2022

योजना का नामप्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना
किस ने लांच कीएनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड
लाभार्थीग्रामीण इलाकों में रहने वाले नागरिक
उद्देश्यएनर्जी एफिशिएंसी को ग्रामीण इलाकों तक पहुंचाना
साल2020
एलईडी बल्ब का मूल्य₹10
लाभार्थियों की संख्या15 से 20 करोड़
एलईडी बल्ब की संख्या60 करोड़
बिजली की बचत9324 करोड़ यूनिट
पैसों की बचत50 हजार करोड़ रुपए
कार्बन उत्सर्जन में कमी7.65 करोड़

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के अंतर्गत बचत

PM Gramin Ujala Yojana 2022 को चरणबद्ध तरीके से लागू किया जाएगा जिसमें उत्तर प्रदेश का वाराणसी, बिहार का आरा, महाराष्ट्र का नागपुर, गुजरात का वडनगर तथा आंध्रप्रदेश का विजयवाड़ा शामिल है। Pradhanmantri Gramin Ujala Yojana 2022 से लगभग 9324 करोड़ यूनिट सालाना बिजली की बचत होगी। जबकि 7.65 करोड़ टन सालाना कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी। इस योजना के माध्यम से 50000 करोड़ रुपए सालाना की बचत होगी। इस योजना के लिए केंद्र या फिर राज्य सरकार से कोई भी सब्सिडी नहीं ली जाएगी। प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना में जो भी खर्च आएगा वह ईईएसएल करेगी। इस योजना की लागत की वसूली कार्बन ट्रेडिंग के माध्यम से की जाएगी।

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना का उद्देश्य

ग्रामीण उजाला योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण इलाकों में एनर्जी एफिशिएंसी को पहुंचाना है। इस योजना के माध्यम से ₹10 मैं एक LED प्रदान किया जाएगा। जिससे कि बिजली की खपत में कमी होगी और पैसों की बचत होगी। Gramin Ujala Yojana 2022के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों का विकास होगा और उनके जीवन स्तर में सुधार आएगा। इस योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों के लोग एनर्जी एफिशिएंसी के बारे में जागरूकता होंगे जिससे कि पूरा देश का विकास होगा।

PM Gramin Ujala Yojana 2022 की विशेषताएं

  • प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के अंतर्गत ग्रामीण इलाके के परिवार को ₹10 में एलईडी बल्ब प्रदान किए जाएंगे।
  • इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक परिवार को तीन से चार एलईडी बल्ब प्रदान किए जाएंगे।
  • PM Gramin Ujala Yojana 2022 को पब्लिक सेक्टर की एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड द्वारा आरंभ किया जाएगा।
  • इस योजना को चरणबद्ध तरीके से वाराणसी, आरा, नागपुर, वडनगर तथा विजयवाड़ा में लागू किया जाएगा।
  • इस योजना को अप्रैल तक पूरे भारत में लागू कर दिया जाएगा।
  • प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के माध्यम से 15 से 20 करोड़ लाभार्थियों को 60 करोड़ एलईडी बल्ब वितरित किए जाएंगे।
  • Pradhanmantri Gramin Ujala Yojana 2022 के माध्यम से लगभग 9325 करोड़ यूनिट सालाना बिजली की बचत होगी।
  • इस योजना के माध्यम से 7.65 करोड़ टन सालाना कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी।
  • इस योजना के माध्यम से प्रतिवर्ष 50000 करोड रुपए की बचत होगी।
  • प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना को लागू करने के लिए केंद्र तथा राज्य सरकार से कोई भी सब्सिडी नहीं ली जाएगी। इस योजना में जो भी खर्चा आएगा वह ईईएसएल करेगी।
  • इस योजना के अंतर्गत लागत की वसूली कार्बन ट्रेडिंग के माध्यम से की जाएगी।
  • प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के माध्यम से ग्रामीण इलाकों के लोग एनर्जी एफिशिएंसी के बारे में जागरूक होंगे।
  • इस योजना के माध्यम से बिजली के बिल में कमी आएगी।
  • इस योजना के माध्यम से लोगों के पैसों की बचत होगी।

PM Kisan Samman Nidhi Yojana: ऐसे भेजा जाता है पीएम किसान निधि का पैसा, कहां अटका है, जानिए

उजाला कार्यक्रम का पिछला प्रक्षेपण

एनटीपीसी, पीएफसी, आरईसी और पावर ग्रिड संयुक्त उद्यम कंपनी उजाला कार्यक्रम के अंतर्गत ₹70 प्रति बल्ब की दर से 36.50 करोड़ से ज्यादा एलईडी बल्ब वितरित कर चुकी है। जिसमें से केवल 20% बल्ब ही ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंचे हैं।  उजाला कार्यक्रम के अंतर्गत ट्यूब लाइट, एनर्जी एफिशिएंसी पंखे, स्ट्रीट लाइट, स्मार्ट मीटर, इलेक्ट्रॉनिक व्हीकल, EV चार्जिंग आदि भी शामिल है।

Conclusion

हमने अपने इस लेख के माध्यम से आपको प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान कर दी है। यदि आप अभी भी किसी प्रकार की समस्या का सामना कर रहे हैं तो आप हमसे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं। आप का कमेंट हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। हम आपकी पूरी सहायता करने की कोशिश करेंगे। धन्यवाद।

Leave a Comment