डोनेट ए पेंशन स्कीम , Donate-a-Pension scheme registration

Labour Ministry launches Donate-a-Pension: केंद्र सरकार ने अंसगठित क्षेत्र मजदूरों के लिए एक नई पहल की शुरुआत की है. केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री (Union Labour and Employment Minister) भूपेंद्र यादव ने सोमवार को प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना (Pradhan Mantri Shram Yogi Maan-Dhan Scheme) के तहत नई दिल्ली में ‘डोनेट-ए-पेंशन’ (Donate-a-Pension) स्कीम की शुरुआत की. 

डोनेट-ए-पेंशन योजना । Donate-a-Pension Scheme

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव ने बताया कि भारत सरकार के श्रम मंत्रालय के द्वारा आज आईकॉनिक वीक की शुरूआत हो रही है जिसके तहत एक स्कीम ‘डोनेट ए पेंशन’ शुरू की गई है. इसमें देश के असंगठित क्षेत्र में जो श्रमिक है उनके लिए ई-श्रम रजिस्ट्रेशन की शुरूआत हुई है. इस स्कीम से लाखों मजदूरों को फायदा मिलने की उम्मीद है. 

7 मार्च से शुरू किया गया यह कार्यक्रम 13 मार्च तक चलाया जाएगा. इस स्कीम के तहत नागरिक घरेलू कामगारों, ड्राइवरों, घरेलू नौकरों सहित कर्मचारियों के लिए प्रीमियम का दान कर सकते हैं. भूपेंद्र यादव ने ट्विटर पर लिखा कि मैंने अपने घर पर माली को पेंशन दान देकर डोनेट-ए-पेंशन प्रोग्राम की शुरुआत की. यह PM-SYM पेंशन स्कीम के तहत एक पहल है.

प्रधानमंत्री श्रम योगी मान-धन (PM-SYM)

PM-SYM एक 50:50 स्वैच्छिक और अंशदायी पेंशन योजना है जिसमें लाभार्थी एक निर्धारित आयु-विशिष्ट योगदान देता है और केंद्र सरकार इसका मिलान करती है। मसलन, अगर कोई व्यक्ति 29 वर्ष की आयु में सिस्टम में शामिल होता है, तो उसे 60 वर्ष की आयु तक प्रति माह 100 रुपये देने होंगे, फिर केंद्र सरकार 100 रुपये की समान राशि का योगदान करेगी। ग्राहक को पारिवारिक पेंशन के लाभ के साथ 3000/- रुपये की मासिक पेंशन मिलेगा।

स्कीम का नामडोनेट ए पेंशन
किस ने लांच कियाभारत सरकार
लाभार्थीदेश के श्रमिक
उद्देश्यसभी अंसगठित श्रमिकों का पेंशन
आधिकारिक वेबसाइटयहां क्लिक करें
साल2022

डोनेट-ए-पेंशन योजना का उद्देश्य

Donate-a-Pension Scheme का मुख्य उद्देश्य निर्माण श्रमिक, प्रवासी श्रमिक गिग और प्लेटफार्म श्रमिक, स्ट्रीट वेंडर, घरेलू श्रमिक, कृषि श्रमिक आदि सहित सभी असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों बुढापे में उन्हें अपनी जीवन बस करने में काफी मदद मिलेगी. 

डोनेट ए पेंशन योजना के लाभ तथा विशेषताएं

  • केंद्रीय रोजगार मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा डोनेट ए पेंशन स्कीम लांच किया गया है।
  • ई-श्रम पोर्टल के माध्यम से 38 करोड असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों का नेशनल डाटाबेस तैयार किया जाएगा
  • इस पोर्टल के माध्यम से मजदूरों जेड रेहड़ी पटरी वालों एवं घरेलू कामगारों को एक साथ जोड़ा जाएगा।

योजना के तहत पात्रता

योजना का लाभार्थी असंगठित क्षेत्र का कोई भी श्रमिक हो सकता है जो ज्यादातर घर पर काम करने वाले, स्ट्रीट वेंडर, मिड-डे मील वर्कर, हेड लोडर, ईंट भट्ठा कामगार, मोची, कूड़ा बीनने वाले, घरेलू कामगार, धोबी, रिक्शा चालक, भूमिहीन मजदूर, खुद के खेतों में काम करने वाले खेतिहर मजदूर, निर्माण मजदूर, बीड़ी मजदूर, हथकरघा मजदूर, चमड़ा मजदूर, या इसी तरह के अन्य व्यवसाय से जुड़े लोग हो सकते हैं।

  • श्रम मंत्रालय के अनुसार, कोई भी कर्मचारी जिसकी मासिक आय 15,000 रुपये प्रति माह या उससे कम है
  • और 18-40 वर्ष के प्रवेश आयु वर्ग के हैं, योजना के लिए पात्र हैं।

इसके अलावा, उन्हें नई पेंशन योजना (एनपीएस), कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआईसी) योजना या कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के तहत कवर नहीं किया जाना चाहिए। इसके अलावा, वह आयकर दाता नहीं होना चाहिए।

डोनेट ए पेंशन स्कीम में आवेदन कैसे करे ?

राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी इस डोनेट ए पेंशन स्कीम के तहत करने के लिए आवेदन करना चाहते है तो उन्हें अभी थोड़ा इंतज़ार करना होगा क्योकि अभी इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने के लिए आवेदन प्रक्रिया को आरम्भ नहीं किया गया है जैसे ही इस  Donate-a-Pension scheme के अंतर्गत आवेदन प्रक्रिया को लेकर कोई भी आदेश जारी किया जायेगा हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम सूचित कर देंगे।

FAQ:

डोनेट ए पेंशन स्कीम क्या है ?

Labour Ministry launches Donate-a-Pension: भूपेंद्र यादव ने सोमवार को प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना (Pradhan Mantri Shram Yogi Maan-Dhan Scheme) के तहत नई दिल्ली में ‘डोनेट-ए-पेंशन’ (Donate-a-Pension) स्कीम की शुरुआत की.

कौन करा सकता है रजिस्ट्रेशन ?

उन्होंने कहा कि इस स्कीम के तहत अगर 18-40 आयु वाले असंगठित क्षेत्र में कार्य कर रहे श्रमिक रजिस्ट्रेशन करा करा सकते हैं.

डोनेट ए पेंशन में कितना पैसा जमा करना होगा ?

साल के न्यूनतम 660 से 2400 रूपए जमा कराने होंगे. जो उनके लिए कोई और भी जमा करा सकता है. पैसा जमा होने के बाद उनके आयु वर्ग के हिसाब से 60 साल के बाद 3,000 रुपये उन्हें पेंशन के रूप में दिए जाएंगे, जिससे बुढापे में उन्हें अपनी जीवन बस करने में काफी मदद मिलेगी. 

Leave a Comment