APY: 7 रु की रोज बचत से मिलेगी 5000 रु मंथली पेंशन, 2.8 करोड़ लोग कर चुके हैं रजिस्टर

Atal Pension Yojana: वित्त वर्ष 2021 में अटल पेंशन योजना (APY) के सब्सक्राइबर बेस में 33 फीसदी का इजाफा हुआ है.

Atal Pension Yojana: अटल पेंशन योजना (APY) कम वक्त में बहुत लोकप्रिय हो गई है. इसकी बढ़ती लोकप्रियता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि बीते वित्त वर्ष में इसके सब्सक्राइबर बेस में 33 फीसदी का इजाफा हुआ है. यानी लॉकडाउन के दौरान लोगों का भरोसा इस सरकारी पेंशन स्कीम पर बढ़ा है. 31 मार्च 2021 को समाप्त वित्त वर्ष तक अटल पेंशन योजना से जुड़ने वाले सब्सक्राइबर्स की संख्या 2.8 करोड़ से ज्यादा हो गई है. भारतीय पेंशन फंड नियामक एवं विकास प्राधिकरण (PFRDA) ने यह जानकारी दी है.

PFRDA के अनुसार एनपीएस (National Pension Scheme) और एपीआई (Atal Pension Yojana) जैसी प्रमुख योजनाओं के खाताधारकों की संख्या 31 मार्च 2021 को समाप्त वित्त के दौरान 23 फीसदी बढ़कर 4.24 करोड़ तक पहुंच गई है. अटल पेंशन योजना के खाताधारकों की संख्या में लगभग 33 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई और इसमें 77 लाख से अधिक नए ग्राहक जोडे गए. एपीवाई के खाताधारकों की संख्या 31 मार्च 2021 तक 2.8 करोड़ से अधिक थी. वित्त वर्ष 2020-21 में प्रबंधन के तहत कुल परिसंपत्ति (एयूएम) 38 प्रतिशत बढ़कर 5.78 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गई.

क्या है अटल पेंशन योजना

APY भारत सरकार से गारंटी प्राप्‍त पेंशन योजना है, जो पीएफआरडीए द्वारा संचालित की जा रही है. यह मुख्य रूप से असंगठित क्षेत्र के कर्मचारियों के लिए है. भारत सरकार इसके तहत मिलने वाले पेंशन से जुड़े लाभों की गारंटी देती है. इस पेंशन योजना का फायदा उठाने के लिए आपकी उम्र कम से कम 18 और ज्यादा से ज्यादा 40 साल होनी चहिए. इस योजना के तहत कम से कम 20 साल तक निवेश करना होगा. अटल पेंशन योजना का लाभ लेने के लिए आपका बैंक में खाता होना जरुरी है जो आधार कार्ड से जुड़ा हुआ हो. अटल पेंशन योजना के तहत आप कम पैसे जमा करके हर महीने पेंशन के हकदार हो सकते हैं.

5000 रु अधिकतम पेंशन

अटल पेंशन योजना में 1000 रुपये से 5000 रुपये हर महीने पेंशन का प्रावधान है. बता दें कि 18 साल से लेकर 40 साल तक की आयु के लोग इस योजना से जुड़ सकते हैं. अलग अलग उम्र के लोगों के लिए योजना में अंशदान भी अलग अलग है. मसलन 18 साल के हैं तो 5000 रुपये पेंशन के लिए मंथली 210 रुपये योगदान देना होगा. यानी महज 7 रुपये की डेली बचत. वहीं 30 साल के हैं तो 577 रुपये मंथली अंशदान, जबकि 39 साल के हैं तो 1318 रुपये मंथली अंशदान. इस योजना का लाभ वे लोग ही उठा सकते हैं, जो इनकम टैक्स स्लैब से बाहर हैं. भारतीय स्टेट बैंक (SBI) और निजी क्षेत्र के बैंकों द्वारा अटल पेंशन योजना (APY) खाते खोले जा रहे हैं, जो नए APY नामांकन में भाग ले रहे हैं.

योजना में जल्दी जुड़ने के लाभ

उम्र 18 साल

हर महीने योगदान: 210 रुपये
सालाना योगदान: 2520 रुपये
42 साल में योगदान: 105840 रुपये
60 साल बाद पेंशन: 5000 रुपये महीना

उम्र 30 साल

हर महीने योगदान: 577 रुपये
सालाना योगदान: 6924 रुपये
30 साल में योगदान: 207720 रुपये
60 साल बाद पेंशन: 5000 रुपये महीना

उम्र 39 साल

हर महीने योगदान: 1318 रुपये
सालाना योगदान: 15816 रुपये
21 साल में योगदान: 332136 रुपये
60 साल बाद पेंशन: 5000 रुपये महीना

*साफ है कि 18 साल, 30 साल और 39 साल में जुड़ने पर आपका कुल योगदान 105840 रुपये, 207720 रुपये और 332136 रुपये होगा. जिसके बाद आप 60 की उम्र के बाद 5000 रुपये पेंशन के हकदार होंगे. लेकिन 18 की उम्र वालों की तुलना में 39 साल वाले को 3 गुना और 30 साल वाले को करीब 2 गुना पैसा जमा करना होगा.

APY के फायदे

अटल पेंशन योजना (APY) में निवेश से रिटायर होने के बाद आप हर माह पेंशन पाने के हकदार हो सकते हैं. APY योजना की सबसे बड़ी खासियत यह है कि अगर आपकी असामयिक मृत्यु हो जाती है तो आपके परिवार को फायदा जारी रखने का प्रावधान है. अटल पेंशन योजना (APY) में निवेश करने वाले व्यक्ति की मृत्यु होने पर उसकी पत्नी और पत्नी की भी मृत्यु होने की स्थिति में बच्चों को पेंशन मिलने का प्रावधान है.

स्रोत- फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी 

Leave a Comment