आत्‍मनिर्भर भारत एप इनोवेशन चैलेंज क्‍या है?

Aatmanirbhar bharat app innovation challenge : केंद्र सरकार ने आत्‍मनिर्भर भारत एप इनोवेशन चैलेंज शुरू किया है. इसका मकसद भारतीय एप्‍स को प्रोत्‍साहन देना है. इस स्‍कीम के तहत एक मजबूत ईकोसिस्‍टम (पारिस्थतिकी तंत्र) तैयार किया जाएगा. साथ ही भारतीय प्रौद्योगिकी क्षेत्र के उद्यमियों और स्टार्टअप्स को अपने प्रोडक्‍ट को बढ़ावा देने के लिए आर्थिक मदद दी जाएगी. किसने की है शुरुआत? इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (मेइटी) ने अटल इनोवेशन मिशन-नीति आयोग के साथ भागीदारी में इसे शुरू किया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ने स्‍टार्टअप्‍स और टेक्‍नोलॉजी समुदाय से आत्‍मनिर्भर भारत एप इनोवेशन चैलेंज में हिस्‍सा लेने की अपील की है.

क्‍या है मंशा?

15 जून को सीमा पर चीन के साथ झड़प में हमारे 20 जवान शहीद हो गए थे. इसके बाद देश में चीन विरोधी लहर चरम पर है. लोग चाइनीज आइटमों का बहिष्‍कार कर रहे हैं. हाल में सरकार ने चीन के 59 मोबाइल एप्स पर बैन लगाया है. इस स्‍कीम के जरिये सरकार देश में अलग-अलग तरह के विश्वस्तरीय एप विकसित करने के लिए उद्यमियों को प्रोत्साहित करेगी. कब शुरू ही हुई स्‍कीम? आत्‍मनिर्भर भारत एप इनोवेशन चैलेंज का शुभारंभ 4 जुलाई को हुआ. दो चरणों में यह प्रोग्राम चलाया जाएगा.

स्‍कीम की रूपरेखा क्‍या है?

स्‍कीम के पहले चरण की शुरुआत हो गई है. इसके तहत पहले से इस्तेमाल हो रहे ऐसे सर्वश्रेष्ठ भारतीय एप की पहचान की जाएगी, जिसमें अपने संबंधित क्षेत्र में विश्वस्तरीय एप बनने की क्षमता है. पहला चरण एक माह में पूरा होने की उम्मीद है. इसके दूसरे चरण के तहत भारतीय स्टार्टअप्स, उद्यमियों और कंपनियों की पहचान की जाएगी. उन्हें आइडिएशन, इनकुबेशन, प्रोटोटाइपिंग और एप पेश करने के लिए बढ़ावा दिया जाएगा. दूसरा चरण अधिक लंबा चलेगा.

किन श्रेणियों में विकसित कर सकते हैं एप?

इस प्रोग्राम के तहत आठ श्रेणियों में एप विकसित करने पर ध्यान दिया जाएगा. इनमें ऑफिस प्रोडक्टिविटी एंड वर्क फ्रॉम होम, सोशल नेटवर्किंग, ई-लर्निंग, मनोरंजन, हेल्‍थ एंड वेलनेस, बिजनेस (एग्रीटेक, फिनटेक सहित), न्‍यूज और गेम्स शामिल हैं.

कहां भेजनी हैं एंट्री?

माईगव वेबसाइट के जरिये एंट्रीज भेजनी हैं. इसके लिए अंतिम तारीख 18 जुलाई है.

कैसे होगा चुनाव?

निजी और अकादमिक क्षेत्र के विशेषज्ञों की ज्यूरी एंट्रीज का आकलन करेगी. चुने गए एप को पुरस्कृत किया जाएगा. साथ ही नागरिकों को सूचना के लिए इन्हें लीडर बोर्ड पर भी डाला जाएगा.

Leave a Comment